कामयाबी की मूल बातें: Amazon Ads के बारे में समझना


चाहे आप ब्रैंड के बारे में जागरूकता बढ़ाना चाहते हों, अपने प्रोडक्ट, ब्रैंड या सर्विस को ख़रीदने पर विचार करने का मौका देना चाहते हों, ख़रीदारी बढ़ाना चाहते हों या विश्वसनीयता को बढ़ाना चाहते हों, हम आपको सही एडवरटाइज़िंग सोल्यूशन पाने के लिए ऐसे टूल उपलब्ध कराएँगे, जिनकी मदद से आपको मापने योग्य नतीजे मिल सकें.

हम आपको डिजिटल एडवरटाइज़िंग के फ़ायदे, Amazon Ads के प्रोडक्ट से जुड़े ऑफ़र, एडवरटाइज़िंग के लक्ष्य तय करने के लिए गाइड और इंडस्ट्री के आम शब्दों से परिचित कराते हुए शुरू करने में मदद देंगे.


क्या मुझे डिजिटल एडवरटाइज़िंग का इस्तेमाल करना चाहिए?

हमेशा चालू रहने वाली डिजिटल दुनिया ने कस्टमर को प्रोडक्ट और ब्रैंड के बारे में ज़्यादा जानने, ब्राउज़ करने और उन्हें ख़रीदने के लिए नए रास्ते खोल दिए हैं. डिजिटल ऐड बनाने में टेक्स्ट, इमेज या वीडियो में से किसी के भी मिले-जुले तरीके का इस्तेमाल किया जा सकता है और वे कई वेबसाइट से लेकर सोशल मीडिया और स्ट्रीमिंग कॉन्टेंट तक हर जगह दिखाई दे सकते हैं. डिजिटल एडवरटाइज़िंग से कई फ़ायदे मिलते हैं:

ख़रीदारों तक पहुँचने के नए तरीक़े:
ज़्यादा से ज़्यादा कस्टमर अपना ऑनलाइन शॉपिंग का सफ़र शुरू करते हैं. Statista के मुताबिक, यह अनुमान लगाया गया है कि 2024 में संयुक्त राज्य अमेरिका में 278.33 मिलियन कस्टमर ऑनलाइन ख़रीदारी करेंगे.1 यह ट्रेंड संभावित ख़रीदारों के साथ ऑनलाइन जुड़ने का अवसर उपलब्ध कराता है.

फ़्लेक्सिबल फ़ॉर्मेट:
एक जैसी चीज़ें सभी के साथ काम नहीं करती हैं और डिजिटल सोल्यूशन इसी बात को ध्यान में रखकर बनाए जाते हैं. डिजिटल एडवरटाइज़िंग कई तरह के क्रिएटिव ऐड फ़ॉर्मेट और एडवरटाइज़िंग प्लेसमेंट सहित कस्टमाइज़ किए जा सकने वाले फ़ीचर का सेलेक्शन ऑफ़र करता है.

कस्टमाइज़ किया जा सकने वाला बजट:
रेडियो, आउट-ऑफ-होम बिलबोर्ड प्लेसमेंट और अन्य पारंपरिक एडवरटाइज़िंग के विपरीत, जिनमें अक्सर काफ़ी ज़्यादा पैसा लगाना पड़ता है, डिजिटल एडवरटाइज़िंग को आपके बजट की चिंता किए बिना इस्तेमाल किया जा सकता है.

काम को तुरंत पूरा करने की सुविधा:
डिजिटल एडवरटाइज़िंग की मदद से आप पारंपरिक तरीके की एडवरटाइज़िंग के मुकाबले कैम्पेन को ज़्यादा तेज़ी से तैयार और ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं. इससे, आपको सही जगह और सही समय पर ऑडियंस तक पहुंचने का मौका मिलता है.

रियल-टाइम इनसाइट:
डिजिटल एडवरटाइज़िंग के कई प्रोडक्ट रियल-टाइम मेजरमेंट और ऑप्टिमाइज़ेशन सुविधाएं ऑफ़र करते हैं. अपने ऐड की परफ़ॉर्मेंस देखने के लिए, नतीजे ट्रैक करें और जब चाहें अपने कैम्पेन में बदलाव करें.


Amazon Ads क्या ऑफ़र करता है?

दुनिया भर में लाखों ऐक्टिव कस्टमर अकाउंट* के साथ Amazon इस बात बहुत अच्छे से समझता है कि ख़रीदार ऑनलाइन खोजते, ब्राउज़ करते और ख़रीदारी करते समय प्रोडक्ट और ब्रैंड के साथ किस तरह से एंगेज होते हैं.

Amazon Ads से एडवरटाइज़िंग करने से, आपको कस्टमर के सफ़र के हर स्टेज में उन तक पहुंचने में मदद मिल सकती है. हमारे ऑफ़र आपको अपने एडवरटाइज़िंग लक्ष्यों को हासिल करने में मदद करते हैं. साथ ही, इनकी मदद से कस्टमर ऐसे प्रोडक्ट पा सकते हैं जिन्हें वे खोज रहे हैं.

*Amazon के तिमाही मुनाफ़े की रिलीज़, Q1 2020. ऐक्टिव कस्टमर अकाउंट का मतलब उन अकाउंट से है, जिन्होंने पिछले 12 महीनों के दौरान ऑर्डर किया है.

Amazon Ads की ओर से ये प्रोडक्ट ऑफ़र किए जाते हैं:

डेस्कटॉप और मोबाइल पर Sponsored Products ऐड प्लेसमेंट

ये सेल्फ़-सर्विस, प्रति-क्लिक-लागत वाले ऐड, शॉपिंग नतीजे में और प्रोडक्ट जानकारी पेज पर अलग-अलग प्रोडक्ट लिस्टिंग के हिसाब से दिखाई देते हैं.

डेस्कटॉप और मोबाइल पर Sponsored Brands ऐड प्लेसमेंट

ब्रैंड के लिए ये सेल्फ़-सर्विस, प्रति-क्लिक-लागत वाले ऐड, शॉपिंग नतीजे में दिखते हैं और इनमें कस्टम हेडलाइन, ब्रैंड लोगो और कई प्रोडक्ट फ़ीचर होते हैं.

डेस्कटॉप और मोबाइल पर Sponsored Display ऐड प्लेसमेंट

ये सेल्फ़-सर्विस डिस्प्ले ऐड अपने-आप जनरेट किए गए ऐड क्रिएटिव का इस्तेमाल करते हैं और ऐसी ऑडियंस को टार्गेट करते हैं, जिन्हें Amazon पर सम्बंधित ख़रीदारी से जुड़ी दिलचस्पियों के हिसाब से तैयार किया जाता है.

डेस्कटॉप और मोबाइल पर Stores ऐड प्लेसमेंट

Amazon पर ये मुफ़्त, मल्टी-पेज ब्रैंड डेस्टिनेशन आपके प्रोडक्ट पोर्टफ़ोलियो को दिखाते हैं और आपके ब्रैंड की कहानी बताने में मदद करते हैं.

म्यूज़िकल नोट

ये ऐड Alexa ऐक्टिवेट किए गए डिवाइस पर Amazon Music के मुफ़्त टियर पर चलाए जाते हैं. इनमें, Echo और Fire TV के साथ ही मोबाइल और डेस्कटॉप पर चलाने की सुविधा भी शामिल हैं.

स्ट्रीमिंग वीडियो

Streaming TV ऐड कनेक्टेड TV, पब्लिशर चैनल और नेटवर्क, IMDb और IMDb TV पर दिखाई देते हैं. आउट-स्ट्रीम वीडियो ऐड, वीडियो कॉन्टेंट के बाहर दिखाई देते हैं, जहाँ कस्टमर अपना समय बिताते हैं.

कस्टम एडवरटाइज़िंग

ख़ास ज़रूरतों के हिसाब से तैयार किए गए इन एडवरटाइज़िंग एक्सपीरिएंस को Amazon Ads के अकाउंट एक्ज़ीक्यूटिव के साथ मिलकर बनाया जाता है.

Amazon DSP

Amazon के डिमांड-साइड प्लेटफ़ॉर्म से एडवरटाइज़र को प्रोग्रामेटिक रूप से डिस्प्ले, वीडियो और ऑडियो ऐड ख़रीदने की सुविधा मिलती है.

यह प्रोडक्ट मापता है कि Amazon पर गैर-Amazon Ads मीडिया कैसे बेहतर नतीजे देता है.

मैं अपने एडवरटाइज़िंग के लक्ष्यों की पहचान कैसे करूँ?

शुरू करने के लिए, आप ऐसे एडवरटाइज़िंग लक्ष्य सेट करना चाहेंगे जिसके नतीजे आपके ज़रूरत के अनुसार हों.

क्या आपको पक्का पता नहीं है कि कहाँ से शुरुआत की जाए?

सामान्य लक्ष्यों, उनके लिए तय किए गए उद्देश्यों और सफलता की ख़ास मेट्रिक के बारे में ज़्यादा जानें.

लक्ष्यउद्देश्यकामयाबी के लिए सैंपल मेट्रिक
जागरूकता“मुझे ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को अपने बिज़नेस के बारे में बताना है”

“मुझे नए संभावित कस्टमर तक पहुँचना है”

“मुझे अपने ब्रैंड के बारे में बताना है”
अपने ब्रैंड के बारे में बताना, संभावित नए कस्टमर तक पहुँचना और अपने ब्रैंड में लोगों का भरोसा जीतने में मदद पाना. ऐसी ऑडियंस की संख्या बढ़ाने में मदद पाएं जिस तक आपको पहुंचना है.•इम्प्रेशन
• ब्रैंड रिकॉल में बढ़त
खरीदने पर विचार“मुझे ऐसे और भी खरीदार चाहिए जो मिलते-जुलते ब्रैंड या उनके प्रोडक्ट ब्राउज़ करते समय मेरे प्रोडक्ट/ब्रैंड को अपने खरीदने पर विचार करने से जुड़े सेट में शामिल करें”संबंधित और एंगेजिंग ऐड बनाकर शॉपिंग माइंडसेट वाले खरीदारों तक पहुंचें. ख़रीदने पर विचार करने वाले कैम्पेन संभावित कस्टमर को एंगेज करने पर फ़ोकस करते हैं.• ट्रैफ़िक
• Store विज़िट
• ऐप इंस्टॉल
• ऐड एंगेजमेंट
• वीडियो व्यू
• ईमेल लिस्ट साइन-अप
• जानकारी पेज पर विज़िट
कन्वर्ज़न“मुझे अपने प्रोडक्ट या सर्विस की बिक्री बढ़ाना है”

“मुझे ख़रीदारी का मक़सद ज़्यादा रखने वाले ख़रीदारों को
खरीदने पर विचार करने से लेकर खरीदारी करने तक का पक्का इरादा रखते हैं”
पक्का इरादा रखने वाले ऐसे खरीदारों को एंगेज करें जो खरीदने पर विचार करने वाले कदम से आगे बढ़कर खरीदारी कर सकें.• बिक्री
• ऐड पर खर्च से हुआ फ़ायदा
•बिक्री पर एडवरटाइज़िंग लागत
विश्वसनीयता“मैं चाहता हूं कि मेरे मौजूदा कस्टमर मेरे प्रोडक्ट या ब्रैंड के प्रति विश्वसनीय बनाए रखें”आपके प्रोडक्ट या सर्विस को पहले खरीद चुके कस्टमर की बार-बार बिक्री करने के मौके बढ़ाने में मदद पाएं.• बार-बार की जाने वाली खरीदारियां
• रेफ़रल
• Store विज़िट
• सब्सक्राइब और सेव करें

मुझे किन शर्तों के बारे में पता होना चाहिए?

हमने डिजिटल एडवरटाइज़िंग नेविगेट करने में आपकी मदद करने के लिए, शर्तों को एक ही जगह पर इकट्ठा किया है.
कुछ शर्तें डिजिटल एडवरटाइज़िंग इंडस्ट्री पर पूरी तरह से अप्लाई की जा सकती हैं और कुछ शर्तें Amazon Ads के लिए यूनीक हैं.

सामान्य एडवरटाइज़िंग:

  • एट्रिब्यूशन: कोई व्यक्ति किसी प्रोडक्ट या सर्विस को खरीदे इससे पहले, उन्हें इसके बारे में कई एडवरटाइज़मेंट दिखाई दे सकते हैं. जैसे, उन्हें रेडियो कमर्शियल सुनाई दे सकता है, बिलबोर्ड दिखाई दे सकता है और फिर वे ऑनलाइन ऐड देख सकते हैं. एट्रिब्यूशन से यह पता चलता है कि किस एडवरटाइज़मेंट ने उस खरीदारी के बारे में बताया था. अलग-अलग सर्विस में अलग-अलग एट्रिब्यूशन मॉडल होते हैं, जो अलग-अलग चीज़ों को ध्यान में रखते हैं. जैसे कि कस्टमर ने ऐड से कैसे इंटरैक्ट किया और ख़रीदारी से सम्बंधित वह इंटरैक्शन कब किया गया था.
  • कंज़्यूमर की ख़रीदारी का सफ़र/कंज़्यूमर के फ़ैसले का सफ़र: आपकी कंपनी और ब्रैंड के साथ इंटरैक्शन करते समय खरीदारों के पूरे एक्सपीरिएंस के बारे में बताने के लिए इस शब्द को इस्तेमाल किया जाता है. कस्टमर का खरीदारी का सफ़र में ट्रांज़ैक्शन या एक्सपीरिएंस के सिर्फ़ एक हिस्से को देखने के बजाय, उसके पूरे एक्सपीरिएंस के बारे में जानकारी दी जाती है. आप अपने एडवरटाइज़िंग के उद्देश्यों को सफ़र के स्टेज में मैप कर सकते हैं, ये उद्देश्य आम तौर पर इन चीज़ों से जुड़े होते हैं: जागरूकता, ख़रीदने पर विचार करना, ख़रीदारी या कन्वर्शन और विश्वसनीयता.
  • डिमांड-साइड प्लेटफ़ॉर्म या DSP: यह ऐसा सॉफ़्टवेयर है जिसे कई पब्लिशर डिजिटल एडवरटाइज़िंग इन्वेंट्री को प्रोग्रामेटिक रूप से खरीदने और मैनेज करने के लिए इस्तेमाल करते हैं. Amazon Ads के लिए Amazon DSP एक सोल्यूशन है. Amazon DSP सेल्फ़-सर्विस और मैनेज करने वाले, दोनों तरीक़े ऑफ़र करता है.
  • कीवर्ड: आपके ऐड को संबंधित खरीदारी से जुड़े सवालों पर टार्गेट करने के लिए इन शब्दों या वाक्यांश का इस्तेमाल किया जाता है. आप मैन्युअल टार्गेटिंग का इस्तेमाल करके ऐसे कीवर्ड चुन सकते हैं जिन्हें आप टार्गेट करना चाहते हैं या Amazon Ads को ऑटोमेटिक टार्गेटिंग का इस्तेमाल करके कीवर्ड चुनने देना चाहते हैं.
  • प्लेसमेंट: एडवरटाइज़मेंट दिखाई देने की जगह. इन जगहों में Amazon पर मौजूद शॉपिंग क्वेरी, Amazon डिवाइस पर (जैसे Fire TV या Fire टैबलेट) और थर्ड-पार्टी साइट जैसे उदाहरण शामिल हैं.
  • प्रोग्रामेटिक: डिजिटल एडवरटाइज़िंग इंडस्ट्री में इस्तेमाल किया जाने वाला यह शब्द डिजिटल एडवरटाइज़िंग इन्वेंट्री की ऑटोमेटेड ख़रीदारी और बिक्री के बारे में बताता है.
  • टार्गेटिंग: डिजिटल एडवरटाइज़िंग सर्विस दिलचस्पियों के हिसाब से ऐड को संभावित कस्टमर से मैच करने के लिए कई तरह के तरीके इस्तेमाल करती हैं. इन तरीक़ों में सम्बंधित ख़रीदारी से जुड़ी क्वेरी या सम्बंधित प्रोडक्ट की ख़रीदारी शामिल हैं.

एडवरटाइज़िंग की लागत:

  • बजट: आपके ऐड कैम्पेन पर ख़र्च की जाने वाली आपकी ज़्यादा से ज़्यादा लागत.
  • बोली: बोली उस लागत को कहा जाता है जिसे आप खरीदारों को अपने एडवरटाइज़मेंट पर क्लिक पर देना चाहते हैं. Amazon Ads की मदद से, आप ऑटोमेटिक बिडिंग (आपकी बोली को आपके उद्देश्य तक पहुँचने में मदद के लिए अपने-आप ऑप्टिमाइज़ कर दिया जाएगा) या मैन्युअल बिडिंग का तरीक़ा इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके अलावा, आपके पास ख़ुद बोली सेट करने का भी विकल्प होता है.
  • प्रति-क्लिक-लागत (CPC): किसी व्यक्ति के आपके ऐड पर हर बार क्लिक करने पर आपकी तरफ़ से पेमेंट की जाने वाली औसत कीमत. आपकी ओर से ऐड पर खर्च की गई लागत को उस ऐड पर किए गए क्लिक की संख्या से भाग देकर इस कीमत का हिसाब लगाया जाता है. Sponsored Products और Sponsored Brands, प्रति-क्लिक-लागत ऐड के उदाहरण हैं. यहाँ आप सिर्फ़ अपने ऐड पर किए गए क्लिक के हिसाब से ही पेमेंट करते हैं.
  • प्रति-हज़ार-इम्प्रेशन-लागत [तकनीकी तौर पर, "प्रति मील लागत"] (CPM): आपके ऐड के 1,000 इम्प्रेशन डिलीवर करने पर पेमेंट की जाने वाली औसत लागत.

ऐड कैम्पेन के नतीजे:

  • बिक्री पर एडवरटाइज़िंग लागत (ACOS): इस मेट्रिक का इस्तेमाल Sponsored Products और Sponsored Brands कैम्पेन की परफ़ॉर्मेंस को मापने के लिए किया जाता है. ACOS की मदद से प्रमोटेड प्रोडक्ट की बिक्री से जुड़े ऐड पर खर्च का अनुपात (Sponsored Products) या ब्रैंड की कुल बिक्री (Sponsored Brands) को दिखाया जाता है. इसे ऐड पर ख़र्च में एट्रिब्यूटेड बिक्री से भाग देकर कैलकुलेट किया जाता है.
  • ब्रैंड को आगे बढ़ाना: यह आपके ऐड की वजह से ब्रैंड के बारे में खरीदार के विचार और बर्ताव पर होने वाले सीधे असर का मेजरमेंट है. इस मेट्रिक का कैलक्युलेशन करने में ब्रैंड के बारे में जागरूकता और ख़रीदने की संभावना के मेट्रिक जैसे कई तरीक़े के पोस्ट-एक्सपोज़र सक्सेस मेट्रिक इस्तेमाल किए जाते हैं.
  • क्लिक-थ्रू रेट (CTR): यह इम्प्रेशन की कुल संख्या के मुकाबले क्लिक किए गए ऐड इम्प्रेशन का प्रतिशत है. CTR का स्टैंडर्ड कैलक्युलेशन करने का तरीक़ा: (क्लिक/इम्प्रेशन) x 100.
  • कन्वर्शन: कस्टमर की ओर से की जाने वाली कार्रवाई; इस वाक्यांश का इस्तेमाल कई तरह के कामों के बारे में बताने के लिए किया जा सकता है, इनमें "कार्ट में जोड़ें" पर क्लिक करना, ख़रीदारी पूरी करना वग़ैरह शामिल हैं.
  • ब्रैंड में नया मेट्रिक: ब्रैंड में नया मेट्रिक पिछले एक साल में Amazon पर पहली बार आपके ब्रैंड/प्रोडक्ट को खरीदने वाले कस्टमर के बारे में बताते हैं. ये मेट्रिक एडवरटाइज़र को Amazon पर नए कस्टमर को एंगेज करने में लगने वाले ख़र्च का अंदाज़ा लगाने के साथ ही सबसे बेहतर चैनल और रणनीतियों की पहचान करने के टूल उपलब्ध कराते हैं, ताकि वे अपने कैम्पेन के लक्ष्य हासिल कर सकें.
  • इम्प्रेशन: किसी पेज या डिवाइस पर ऐड को रेंडर किए जाने की संख्या.
  • पहुँच: उन कुल यूज़र की संख्या जिन्हें किसी भी वेब पेज या स्क्रीन पर एक जैसे ऐड दिखाए गए.
  • ऐड पर ख़र्च से हुआ फ़ायदा (ROAS): यह आपकी ओर से एडवरटाइज़िंग पर ख़र्च किए गए हर डॉलर पर आपको मिलने वाले डॉलर का माप है. ROAS का स्टैंडर्ड कैलक्युलेशन करने का तरीक़ा: (ऐड से कुल बिक्री) / (ऐड पर कुल ख़र्च).
  • इनवेस्टमेंट पर फ़ायदा (ROI): यह आपके खर्च किए गए हर डॉलर पर आपको हासिल होने वाले नेट प्रॉफ़िट का माप बताता है. ROI के स्टैंडर्ड कैलक्युलेशन का तरीका
    (आय – लागत) / (लागत).

मुझे कहाँ से शुरुआत करना चाहिए?

अगर आपका Amazon Ads पर नया है और Amazon पर प्रोडक्ट बेचने वाले रजिस्टर्ड सेलर या वेंडर हैं, तो हम आपको स्पॉन्सर्ड ऐड से शुरुआत करने का सुझाव देते हैं. ये ऐड सोल्यूशन आसानी से सेट-अप किए जा सकते हैं और इन्हें अलग-अलग लेवल के बजट के मुताबिक काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है. सबसे अच्छी बात यह है कि इस तरह के ऐड प्रति-क्लिक-लागत वाले होते हैं – इसका मतलब यह है कि आपको सिर्फ़ तभी पेमेंट करना होता है जब खरीदार आपके ऐड पर क्लिक करता है. जब आप स्पॉन्सर्ड ऐड कैम्पेन बनाते हैं, तो आप अपने ख़ुद के बजट के साथ वह राशि भी चुनते हैं जिसकी आप एक क्लिक के लिए बोली लगाते हैं. अगर आप ऐसे प्रोडक्ट या सर्विस को प्रमोट करने के लिए Amazon Ads का इस्तेमाल करना चाहते हैं, जिन्हें आप Amazon पर नहीं बेचते हैं, तो हम डिस्प्ले ऐड, वीडियो ऐड और कस्टम ऐड ऑफ़र करते हैं.

क्या आप शुरू करने के लिए तैयार हैं?

क्या आप पहले से रजिस्टर्ड एडवरटाइज़र हैं? यहाँ साइन इन करें.


स्पॉन्सर्ड ऐड और Stores के बारे में ज़्यादा जानने के लिए सफलता की मूल बातों पर जाएँ: स्पॉन्सर्ड ऐड के बारे में जानना.

Amazon DSP और वीडियो ऐड जैसे हमारे अन्य एडवरटाइज़िंग प्रोडक्ट के बारे में ज़्यादा जानें, इसके लिए आपको कामयाबी की मूल बातों पर जाना होगा: स्पॉन्सर्ड ऐड के अलावा.

Amazon Ads लर्निंग कंसोल पर हमारे प्रोडक्ट और सोल्यूशन का सबसे अच्छा इस्तेमाल करने का तरीक़ा जानें.

अभी भी आपको कोई सवाल पूछना है? हमारे अक्सर पूछे जाने वाले सवालों पर जाएँ.