SSP और DSP में क्या अंतर है?

यहाँ दी गई सभी चीज़ों के बारे में आपको जानना चाहिए.

Amazon DSP की इमेज

अगर आप प्रोग्रामैटिक एडवरटाइज़िंग की दुनिया के बारे में जानना बस शुरू ही कर रहे हैं, तो डिजिटल मीडिया की ख़रीदारी और बिक्री में शामिल मुख्य शब्दों, कॉन्सेप्ट और ऐड टेक को समझना ज़रूरी है. इस इंडस्ट्री में सबसे ज़रूरी कॉम्पोनेंट में डिमांड साइड प्लेटफ़ॉर्म (DSP) और सप्लाई साइड प्लेटफ़ॉर्म (SSP) शामिल हैं. यह समझना ज़रूरी है कि DSP और SSP के बीच क्या अंतर हैं, वे प्रोग्रामेटिक मीडिया खरीदारी की सुविधा देने के लिए साथ मिलकर किस तरह काम करते हैं और वे बेहतर डिजिटल एडवरटाइज़िंग सप्लाई चेन में किस तरह भूमिका निभाते हैं.

यहाँ, हम आपको एकदम सटीक रूप से बताएँगे कि DSP और SSP क्या हैं और वे बेहतर प्रोग्रामैटिक एडवरटाइज़िंग लैंडस्केप में किस तरह से काम करते हैं:

डिमांड साइड प्लेटफ़ॉर्म (DSP) क्या है?

डिमांड साइड प्लेटफ़ॉर्म ऐसा प्रोग्रामैटिक सॉफ़्टवेयर है जो एडवरटाइज़र को एक से ज़्यादा सोर्स से ऑटोमेटेड, सेंट्रलाइज़्ड मीडिया ख़रीदारी उपलब्ध कराते हैं. जैसा कि इसका नाम है, DSP एडवरटाइज़िंग इक्वेशन की डिमांड साइड से मैनेज होता है: एडवरटाइज़र ऐसी इन्वेंट्री चाहते हैं जिसकी मदद से वे तय बजट के साथ, सही समय पर सही ऑडियंस तक पहुँच सकें.

उदाहरण के लिए, Amazon DSP जैसे डिमांड साइड प्लेटफ़ॉर्म की मदद से एडवरटाइज़र जहाँ समय बिताते हैं वहाँ, प्रोग्रामेटिक रूप से डिस्प्ले ऐड, वीडियो ऐड और ऑडियो ऐड ख़रीद सकते हैं. यह उन एडवरटाइज़र के लिए उपलब्ध है जो Amazon पर बेचते हैं और जो नहीं बेचते हैं. ब्रैंड, हाई- क़्वालिटी, ब्रैंड-सेफ़ इन्वेंट्री से नए और एंगेज हुए ऑडियंस तक पहुँच सकते हैं, जिसमें Amazon की मालिकाना साइटें, जैसे कि IMDb या Twitch और मुख्य पब्लिशर की साइटें शामिल हैं.

सप्लाई साइड प्लेटफ़ॉर्म (SSP) क्या है?

सप्लाई साइड प्लेटफ़ॉर्म (SSP) का मतलब ऐसे प्रोग्रामेटिक सॉफ़्टवेयर से है जो पब्लिशर को अपने एडवरटाइज़िंग इम्प्रेशन की बिक्री करने की सुविधा देता है. पब्लिशर को एक बार में कई ऐड एक्सचेंज, डिमांड-साइड प्लेटफ़ॉर्म और ऐड नेटवर्क से कनेक्ट करके, SSP पब्लिशर (यानी सप्लायर) को संभावित खरीदारों के एक बड़े ग्रुप को इम्प्रेशन बेचने की अनुमति देते हैं. साथ ही, इनकी मदद से सप्लायर अपनी आय को ज़्यादा से ज़्यादा बढ़ाने के लिए बोली की रेंज सेट कर सकते हैं. Amazon Publisher Services से Amazon, Amazon DSP से ख़रीदारी करने वाले एडवरटाइज़र को अच्छी-क्वालिटी, क्यूरेट की गई सप्लाई का सीधा ऐक्सेस, बेहतर देखे जाने की संभावना, कम CPM (प्रति मील की लागत) और ऐड पर ख़र्च से हुआ फ़ायदा (ROAS) ज़्यादा देता है.

DSP और SSP एक साथ किस तरह काम करते हैं?

डिमांड साइड प्लेटफ़ॉर्म (DSP) का मतलब एडवरटाइज़र के प्रोग्रामेटिक सॉफ़्टवेयर से है. DSP की मदद से, SSP ऐड एक्सचेंज, ऐड नेटवर्क और डायरेक्ट इंटीग्रेशन के ज़रिए, कई पब्लिशर से मीडिया खरीदने की सुविधा देने में मदद करता है. DSP की मदद से ब्रैंड और एजेंसी (डिमांड साइड) यह तय कर सकते हैं कि कौनसे इम्प्रेशन खरीदने हैं और किस कीमत पर (सप्लाई साइड) खरीदने हैं. एडवरटाइज़र डेमोग्राफ़िक, शॉपिंग और ब्राउज़िंग सिग्नल के हिसाब से किसी DMP की मदद से अपनी ऑडियंस तक पहुंचने का विकल्प चुनते हैं. SSP भी वही सुविधा और तकनीक उपलब्ध कराती है, लेकिन पब्लिशर इन्हें अपनी इन्वेंट्री के लिए सबसे अच्छे ऑफ़र को ऑप्टिमाइज़ करने और उसे हासिल करने (यानी अपनी कमाई को बढ़ाने) में मदद लेने के नज़रिए से इस्तेमाल करते हैं.

डेटा मैनेजमेंट प्लेटफ़ॉर्म (DMP) क्या है?

डेटा मैनेजमेंट प्लेटफ़ॉर्म (DMP) ऐसा सॉफ़्टवेयर है जो एडवरटाइज़र, मार्केटर, ब्रैंड और एजेंसी को कलेक्ट किए गए इनसाइट को Store करने की जगह देता है, ताकि वे उसका इस्तेमाल ऐड कैम्पेन को बेहतर बनाने में कर सकें. Amazon DSP एडवरटाइज़र को प्रोग्रामेटिक ख़रीदारी कैम्पेन बनाते समय अपने ख़ुद के DMP ऑडियंस का इस्तेमाल करने देता है.

रियल टाइम बिडिंग (RTB) क्या है?

रियल टाइम बिडिंग (RTB) प्रोग्रामेटिक रूप से ऐड ख़रीदने का एक तरीक़ा है. RTB के साथ, एडवरटाइज़र इम्प्रेशन मौजूद होने पर नीलामी में हिस्सा ले सकते हैं. अगर उनकी बोली नीलामी जीतती है, तो उनका ऐड पब्लिशर की साइट पर तुरंत डिस्प्ले किया जाता है. RTB न सिर्फ़ कुशल है, बल्कि यह एडवरटाइज़र को सबसे ज़्यादा संबंधित इन्वेंट्री पर ध्यान देने में भी मदद करता है. RTB से पब्लिशर और एडवरटाइज़र SSP की ओर से उपलब्ध कराए गए ऐड को बेच और ख़रीद सकते हैं.

डिजिटल एडवरटाइज़िंग सप्लाई चेन को समझना

डिजिटल एडवरटाइज़िंग सप्लाई चेन नेटवर्क, एक्सचेंज और डिमांड और सप्लाई साइड प्लेटफ़ॉर्म से मिलकर बनती है, जो रियल टाइम बिडिंग ट्रांज़ेक्शन से मीडिया ख़रीदती और बेचती है. प्रोग्रामैटिक खरीदारी से एडवरटाइज़र को सीधे या नीलामी से प्रोग्रामेटिक डिस्प्ले ऐड खरीदने की सुविधा मिलती है. प्रोग्रामेटिक खरीदारी के साथ, एडवरटाइज़र एक तय कीमत पर ऐड खरीदने के लिए Amazon DSP जैसे डिमांड साइड प्लेटफ़ॉर्म के साथ काम करते हैं. DSP ऐड इन्वेंट्री ख़रीदने की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाते हैं और एडवरटाइज़र को सम्बंधित ऑडियंस को खोजने और उन तक पहुँचने में मदद करते हैं.