गाइड

ब्रैंड मार्केटिंग क्या है? पूरी गाइड

ब्रैंड मार्केटिंग के तहत, किसी ब्रैंड के प्रोडक्ट और सर्विस के उन पहलुओं को प्रमोट किया जाता है जो उस पूरे ब्रैंड को ऊपर ले जाते हैं. इसमें, ब्रैंड-कंज़्यूमर के बीच रिलेशन बनाया और मैनेज किया जाता है. साथ ही, ब्रैंड एट्रिब्यूट को प्रमोट किया जाता है. ब्रैंड एट्रिब्यूट का मतलब उन विशेषताओं से है जब वे किसी ख़ास ब्रैंड के बारे में सोचते हैं.

अपने प्रोडक्ट दिखाने और कैम्पेन बनाने के लिए, Amazon Ads का इस्तेमाल करना शुरू करें.

अगर आपके पास सीमित अनुभव है, तो Amazon Ads की ओर से मैनेज की जाने वाली सर्विस का अनुरोध करने के लिए हमसे संपर्क करें. कम से कम बजट अप्लाई होता है.

कस्टमर को Amazon पर अपने प्रोडक्ट खोजने में मदद करने के लिए, प्रति-क्लिक-लागत वाले ऐड बनाएँ.

कस्टमर को क्रिएटिव ऐड के ज़रिए अपने ब्रैंड और प्रोडक्ट खोजने में मदद करें जो सम्बंधित Amazon शॉपिंग नतीजे में दिखते हैं.

इस गाइड में, हम ब्रैंडिंग के ओवरव्यू की जानकारी देंगे जिसमें, ब्रैंड मार्केटिंग रणनीति, ब्रैंड के प्रकार, ब्रैंड के बारे में जागरूकता, ब्रैंड इक्विटि, ब्रैंड सम्बंध और ब्रैंड की पहचान शामिल हैं. इसमें, Amazon Ads के ब्रैंडिंग से जुड़े सोल्यूशन को भी हाइलाइट किया जाएगा.

ब्रैंड का क्या मतलब है?

ब्रैंड का मतलब है कि कोई कंपनी अपने प्रतिस्पर्धी ब्रैंड से ख़ुद को किस तरह अलग करती है. ब्रैंड को कंपनी के व्यक्तित्व के रूप में देखा जा सकता है, जिसके बारे में पहचान चिह्न, लोगो, नाम, टैगलाइन, वॉइस और टोन के माध्यम से बताया जाता है. ऑटोमोटिव, खिलौने और खाने और पीने की चीज़ों के सबसे पुराने और लोकप्रिय ब्रैंड में से कुछ ब्रैंड दशकों से हैं. इतना ही नहीं, कुछ ब्रैंड तो एक सदी से भी पहले से मार्केट में उपलब्ध हैं.

मुख्य तौर पर, ब्रैंड तीन तरह के होते हैं. इनमें कंपनी/कॉर्पोरेशन ब्रैंड, प्रोडक्ट ब्रैंड और व्यक्तिगत ब्रैंड शामिल हैं. व्यक्तिगत ब्रैंड हर व्यक्ति से संबंधित होते हैं. ब्रैंड मार्केटिंग के नियम हर तरह के ब्रैंड पर लागू होते हैं. अब जब हम जानते हैं कि ब्रैंड का मतलब क्या होता है, आइए बात करते हैं कि ब्रैंड मार्केटिंग रणनीति किस तरह बनाई जाती है.

स्टार

ब्रैंड मार्केटिंग क्या है?

ब्रैंड मार्केटिंग किसी ब्रैंड और कंज़्यूमर के बीच रिलेशन बनाने और उसे बढ़ाने की प्रक्रिया है. अलग-अलग प्रोडक्ट या सेवाओं को हाइलाइट करने के बजाय, ब्रैंड मार्केटिंग में पूरे ब्रैंड को प्रमोट किया जाता है. इसमें, उन प्रोडक्ट और सेवाओं को प्रमोट किया जाता है जो ब्रैंड को खास बनाते हैं. ब्रैंड मार्केटिंग का लक्ष्य ब्रैंड की वैल्यू को बनाना है – और इसके नतीजे के रूप में कंपनी की वैल्यू को बढ़ाना है.

ब्रैंड मार्केटिंग रणनीति के लिए उपलब्ध चैनल वही चैनल होते हैं जिनका इस्तेमाल कंपनियाँ प्रोडक्ट मार्केटिंग ऐक्टिविटी, जैसे डिजिटल, सोशल और पेमेंट वाले सर्च एडवरटाइज़िंग के लिए कर सकती हैं. अच्छी रणनीति यह होती है कि ज़्यादा ऑडियंस तक पहुँचने वाले मीडिया मिक्स को बनाने के लिए अलग-अलग चैनल का एक साथ इस्तेमाल किया जाए. उदाहरण के लिए ब्रैंड मार्केटर, ब्रैंड के बारे में जागरूकता फैलाने और कई डिजिटल प्लेटफ़ाॅर्म पर संभावित कस्टमर तक पहुँचने के लिए, ब्रैंड एडवरटाइज़िंग के साथ-साथ ईमेल और काॅन्टेंट मार्केटिंग का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन जब इन प्लेटफ़ाॅर्म पर सही ऑडियंस के लिए सही मैसेज तय करने की बात आती है, तो हमें पहले ब्रैंड से जुड़े एट्रिब्यूट पर विचार करना होगा.

ब्रैंड एट्रिब्यूट क्या हैं?

जिस तरह लोगों के अलग-अलग व्यक्तित्व होते हैं, उसी तरह ब्रैंड के भी यूनीक एट्रिब्यूट होते हैं. एट्रिब्यूट वे विशेषताएं होती हैं, जिनसे लोग किसी ब्रैंड को पहचान सकते हैं. इनमें ब्रैंड से एसोसिएट नाम और टैगलाइन, रंग और यहां तक कि म्यूज़िक या साउंड शामिल हो सकता है. इसके अलावा, एट्रिब्यूट वह भावना भी हो सकती है जो ब्रैंड को दिखाती है. जैसे “भावना” एट्रिब्यूट में प्रामाणिकता, नया क्या है, विश्वसनीयता, ईमानदारी या पारदर्शिता शामिल हैं.

ब्रैंड इक्विटि क्या है?

ब्रैंड इक्विटि किसी कंपनी के ब्रैंड की वैल्यू या किसी ब्रैंड के बारे में कस्टमर की धारणा मापने को कहा जाता है. मजबूत ब्रैंड इक्विटि का संबंध इस बात से है कि कंज़्यूमर, ब्रैंड के बारे में कितना जानते हैं. साथ ही, दूसरी चीज़ों से भी ब्रैंड इक्विटि को मापा जाता है, जैसे अन्य ब्रैंड की तुलना में इसे कितना पसंद करते हैं, ब्रैंड के साथ कनेक्शन का लेवल और ब्रैंड के लिए कितनी विश्वसनीयता है. मज़बूत ब्रैंड इक्विटि, ब्रैंड के लिए कंज़्यूमर के अपनी विशेषता के आधार पर अपने बिज़नेस में सुधार करने और बढ़ाने के मौक़े देती है.

ब्रैंड के बारे में जागरूकता, ब्रैंड विश्वसनीयता, पसंद और फ़ाइनेंशियल मेट्रिक की तुलना करके ब्रैंड इक्विटी को मापा जाता है.

  • ब्रैंड के बारे में जागरूकता इस बात से तय होती है कि कितने कंज़्यूमर ब्रैंड के बारे में जानते हैं. इसे सर्वे और फ़ोकस ग्रुप, सोशल लिसनिंग टूल और सर्च और वेब ट्रैफ़िक इनसाइट से मापा जाता है.
  • ब्रैंड की विश्वसनीयता मापने के लिए ख़रीदारी से जुड़ी इनसाइट, जैसे कि दोबारा ख़रीदारी करने के पैटर्न और ख़रीदारियों के बीच के समय का इस्तेमाल किया जाता है.
  • ब्रैंड पसंद को ख़रीदने का मकसद मेट्रिक और सर्वे जैसी इनसाइट से मापा जाता है.
  • फ़ाइनेंशियल मेट्रिक ब्रैंड मार्केटिंग कैम्पेन के चलते बिक्री में होने वाली बढ़ोतरी से सम्बंधित है.

मज़बूत ब्रैंड इक्विटि बनाने के लिए, मज़बूत ब्रैंड-कंज़्यूमर रिलेशन बनाना ज़रूरी है.

ब्रैंड-कंज़्यूमर रिलेशन क्या है?

ब्रैंड-कंज़्यूमर रिेलेशन को कंज़्यूमर-ब्रैंड या ब्रैंड रिलेशन भी कहा जाता है. यह इस बारे में है कि ब्रैंड और कंज़्यूमर कितनी अच्छी तरह कनेक्ट हैं. क्या यह मज़बूत या कमजोर कनेक्शन है? क्या यह सकारात्मक या नकारात्मक कनेक्शन है? क्या कंज़्यूमर फ़ंक्शनेलिटी के तौर पर ब्रैंड से कनेक्ट हैं या वे भावनात्मक रूप से इसमें निवेश कर रहे हैं? सबसे अच्छे ब्रैंड कनेक्शन मजबूत, सकारात्मक और भावनात्मक हैं. ऐसे कनेक्शन हैं जिससे ख़रीदार एक बार उनके ब्रैंड की ख़रीदारी करके हमेशा उनके ब्रैंड की तारीफ़ करते हैं.

ब्रैंडिंग क्यों ज़रूरी है?

ब्रैंडिंग शायद पहले से कहीं ज़्यादा ज़रूरी है क्योंकि मार्केटप्लेस ज़्यादा सैचुरेटेड हो रहे हैं और कंज़्यूमर के साथ वास्तविक कनेक्शन बनाना मुश्किल हो जाता है. ब्रैंडिंग से कंपनियां अपनी खास कहानियां बता सकती हैं. साथ ही, कस्टमर को कुछ विश्वास दिला कर सोच को बदल सकते हैं. यह दिलचस्पी जगाता है और कस्टमर को अपने ब्रैंड के साथ यादगार संबंध खोजने, जानने और बनाने के लिए आमंत्रित करता है. खास बातें और फ़ीचर के बजाय, ब्रैंडिंग इस बारे में है कि कंपनी का जोर किस चीज़ पर है - इसके कौर में क्या है. ब्रैंडिंग का मतलब कंपनी का सपोर्ट और भावनात्मक कनेक्शन बना कर कंज़्यूमर को अच्छा महसूस कराना है. जो ब्रैंड असरदार तरीक़े से स्थायी इम्प्रेशन बनाते हैं, उससे लंबे समय के लिए कस्टमर के बीच समर्थन और विश्वसनीयता बढ़ाने में मदद मिलती है.

ब्रैंड के लिए रणनीति बनाना

ब्रैंड रणनीति वह रोडमैप है जो कंपनियाँ अपने ब्रैंड को आगे बढ़ाने के लिए फ़ॉलो करती हैं. एक मज़बूत ब्रैंड बनाने के लिए अच्छी तरह से बनाई गई ब्रैंड रणनीति ज़रूरी है. हर ब्रैंड रणनीति में ये चीज़ें शामिल होनी चाहिए.

सर्च बार

रिसर्च

कंपनी की ब्रैंड-बनाने की रणनीति को ऐसे रिसर्च पर आधारित होना चाहिए जो प्रतिस्पर्धी लैंडस्कैप की रूपरेखा तैयार करता है. साथ ही, यह भी बताता है कि ब्रैंड इसमें एक ख़ास ज़रूरत का सोल्यूशन अपने अदंर से किस तरह निकालता है. इससे असल लक्ष्य तय करने में मदद मिलती है. साथ ही, यह जानने में मदद मिलती है कि उसके साथी अपने ब्रैंड को किस तरह पोज़िशन करते हैं.

लक्ष्य और उद्देश्य

लक्ष्य और उद्देश्य

लक्ष्य और उद्देश्यों में मापने योग्य ब्रैंड और मार्केटिंग मेट्रिक के साथ-साथ ब्रैंड के बड़े लक्ष्य भी शामिल हैं. ब्रैंड का वादा क्या है? हर ब्रैंड इंटरैक्शन से कंज़्यूमर क्या अनुभव कर सकते हैं? पीछे जाकर इन सवालों के जवाब देने से कंपनी को यह तय करने में मदद मिलेगी कि वे कौन हैं और वे अपने कस्टमर को किस मकसद से सर्विस देते हैं.

ऑडियंस

ऑडियंस की परिभाषा

हर ब्रैंड और मार्केटिंग रणनीति में इंटरनल और बाहरी जानकारी के आधार पर स्पष्ट रूप से तय ऑडियंस शामिल होनी चाहिए. ख़रीदार का व्यक्तित्व बनाना – आदर्श कंज़्यूमर का काल्पनिक रूप बताना - जिनमें डेमोग्राफ़िक और व्यवहार सम्बंधी जानकारी शामिल हो, ताकि ब्रैंड का टोन ऑफ़ वॉइस, मीडिया की ख़रीदारी और सही ऑडियंस तक पहुँचने की रणनीति के बारे में बताने में मदद मिल सके.

ऐड क्रिएटिव

ब्रैंड की पहचान बनाएँ

जहाँ तक

ब्रैंडिंग की बात है, पहचान का मतलब उन सभी डिज़ाइन एलिमेंट से है जो एक साथ किसी ब्रैंड को विज़ुअल तौर पर दिखाते हैं. इसमें नाम, लोगो, टैगलाइन, कलर पैलेट, टाइपफ़ेस और इमेज स्टाइल शामिल हैं. एक स्पष्ट और एक जैसी ब्रैंड पहचान, जागरूकता फैलाने में मदद करती हैं.

ऐम्प्लिफ़िकेशन

मैसेजिंग और पोज़िशन की जानकारी

ब्रैंड के वादे को मजबूत करने के लिए ब्रैंड किन मैसेज का इस्तेमाल करेंगे? पीयर ब्रैंड के संबंध में ब्रैंड की स्थिति किस तरह की होगी? इंटरनल और बाहरी ब्रैंड मैसेजिंग के बारे में बताएँ, जिसमें आंतरिक रूप से कर्मचारियों और स्टेकहोल्डर और बाहरी रूप से कंज़्यूमर के साथ बातचीत करने पर फ़ोकस किया जाए. ब्रैंड के मिशन, विज़न स्टेटमेंट, वैल्यू और ब्रैंड पोज़िशनिंग स्टेटमेंट को भी तय करना पक्का करें - ब्रैंड क्या करता है, किसके लिए और किस तरह अपने ब्रैंड के वादे को डिलीवर करता है. इस काम को अच्छे से करें, ब्रैंड की कहानी बताने वाले ये एलिमेंट कस्टमर के मन में उनके ख़रीदे गए अलग-अलग प्रोडक्ट की याद से कहीं ज़्यादा समय तक बने रहते हैं.

ब्रैंड की गाइडलाइन

ब्रैंड की गाइडलाइन बनाएँ

ब्रैंड गाइडलाइन इस बात का व्यापक ओवरव्यू है कि बोर्ड में तालमेल बनाने के लिए ब्रैंड एलीमेंट का इस्तेमाल किस तरह किया जाए और किस तरह नहीं किया जाए. ब्रैंड गाइडलाइन, ब्रैंड की वॉइस और टोन के बारे में बताते हैं, इमेज स्टाइल को हाइलाइट करने के साथ-साथ ऐसे सही लोगो और टाइपफ़ेस के इस्तेमाल को मैप करते हैं, जिसमें कॉन्टेंट स्टाइल की गाइड शामिल है. ब्रैंड गाइडलाइन, ब्रैंड मैनेजमेंट और ब्रैंड मार्केटिंग रणनीति का एक अहम हिस्सा है क्योंकि वे कंपनियों को अपने ब्रैंड को ज़रूरत के हिसाब से रोल आउट करने की अनुमति देते हैं जिसे सभी ने एक ही टूलकिट से बनाया है. इसमें ब्रैंड एसेट लाइब्रेरी भी शामिल है, जहाँ मार्केटर स्वीकृत ब्रैंड एसेट को पा सकते हैं.

कैलेंडर

रोलआउट टाइमलाइन

ब्रैंड मार्केटिंग रणनीति में रोलआउट टाइमलाइन शामिल होनी चाहिए. साथ ही, इसमें यह जानकारी शामिल होती है कि पूरक वेब मौजूदगी और सहायक डिजिटल ऐड कैम्पेन जैसे एलिमेंट कब लॉन्च होंगे. याद रखें कि अगर यह एक रिब्रैंड है, तो ईमेल हस्ताक्षर से लेकर सोशल एसेट, न्यूज़लेटर टेम्प्लेट, साइनेज़ को भी अपडेट करने की ज़रूरत है.

ब्रैंड मेजरमेंट

ब्रैंड मेजरमेंट

ज़्यादा जानकारी वाले मेट्रिक को शामिल करना और यह स्पष्ट करना ज़रूरी है कि कंपनी कम समय और लंबे समय में ब्रैंड की सफलता, दोनों को किस तरह मॉनिटर करती हैं और इसको मापती हैं. नेट प्रमोटर स्कोर से ब्रैंड संतुष्टि जैसी चीज़ों को मापें, जो कस्टमर की विश्वसनीयता और उत्साह को मापता है; कस्टमर सटिसफेक्शन स्कोर; ब्रैंड की पहचान और जागरूकता; ब्रैंड की प्रासंगिकता और अलग दिखना. मेजरमेंट में मदद करने के लिए, Amazon As के ब्रैंड में नए मेट्रिक से एडवरटाइज़र को उन रणनीतियों की पहचान करने में मदद मिल सकती है जो Amazon पर कस्टमर से जुड़ाव और प्रभावी बिज़नेस विकास को बढ़ावा दे सकती हैं. Xaxis में ग्लोबल सॉल्यूशन एंड इनोवेशन के डायरेक्टर अकामा डेविस के मुताबिक़, “ब्रैंड मार्केटिंग को और मजबूत और विश्वसनीय मेट्रिक की ज़रूरत है. इनसाइट का इस्तेमाल करने से आपकी ब्रैंड बनाने की गतिविधि ज़्यादा मापने योग्य, विश्वसनीय और इंटीग्रेटेड हो सकती है.”1

ब्रैंड मार्केटिंग में याद रखी जाने वाली तीन बातें

ब्रैंड मार्केटिंग नए और स्थापित दोनों ब्रैंड के लिए असरदार हो सकती है. जब ब्रैंड मार्केटिंग की बात आती है, तो मार्केटर को तीन चीज़ो को याद रखना चाहिए.

  1. याद रखें कि ब्रैंडिंग और मार्केटिंग दो अलग-अलग चीज़ें हैं. कंपनी का ब्रैंड उसका व्यक्तित्व है. मार्केटिंग से कंपनी कंज़्यूमर के साथ उस व्यक्तित्व को शेयर करती है.
  2. रिसर्च या मेजरमेंट के लिए समय निकालें. किसी ब्रैंड के साथियों की पोज़िशन किस तरह की है, इस पर ध्यान दिए बिना, ब्रैंड को अलग दिखाना मुश्किल है. सही मार्केटिंग एट्रिब्यूशन के बिना, यह जानना मुश्किल है कि किसी ब्रैंड ने कोई कदम उठाया है या नहीं. रिसर्च और मेजरमेंट, दोनों के लिए समय निकालने से आपके ब्रैंड के लिए रणनीति और क़ामयाबी को तय करने में मदद मिलेगी.
  3. (बताने के बजाए) ब्रैंड के एट्रिब्यूट दिखाएँ. कंपनी अपने ब्रैंड को भरोसेमंद के रूप में जगह देना चाह सकती है, लेकिन यह नहीं कहना चाहिए कि यह एक भरोसेमंद ब्रैंड है. इसके बजाए, इसे भरोसेमंद प्रोडक्ट और कस्टमर सर्विस के ज़रिए विश्वसनीयता दिखानी चाहिए.

ब्रैंड मार्केटिंग के ट्रेंड

ब्रैंडिंग की वैल्यू ज़्यादा साफ़ होने की वजह से, ब्रैंड की मार्केटिंग बनाम प्रोडक्ट मार्केटिंग में बदलाव ज़्यादा सामान्य होता जा रहा है. जब कंज़्यूमर किसी ब्रैंड से भावनात्मक रूप से जुड़े होते हैं, तो वे उस कंपनी के नए प्रोडक्ट को आज़माने की ज़्यादा संभावना रखते हैं और जब कोई कस्टमर मानते हैं कि ब्रैंड का मजबूत उद्देश्य है, तो वे परिवार और दोस्तों को ब्रैंड का सुझाव देने की 4.5 गुना ज़्यादा संभावना रखते हैं.2 यहाँ चार मुख्य ब्रैंड मार्केटिंग ट्रेंड दिए गए हैं जिन पर आपको ध्यान देना चाहिए:

  1. प्रोग्रामैटिक एडवरटाइज़िंग का इस्तेमाल करना - डिजिटल ऐड को ख़रीदने और बेचने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल - ब्रैंड कैम्पेन के लिए ज़्यादा कुशलता, ज़्यादा कस्टमाइज पहुँच, पारदर्शिता और रियल-टाइम मेजरमेंट और ऑप्टिमाइज़ेशन
  2. स्टैटिक इमेजरी और सिर्फ़ कॉपी करने की तुलना में किसी ब्रैंड की स्टोरी को ज़्यादा असरदार तरीक़े से बताने के लिए वीडियो मार्केटिंग को शामिल करना. वीडियो, ब्रैंड के बारे में जागरूकता फैलाने और स्थापित कस्टमर के साथ संबंध मजबूत करने के लिए काम का है. वास्तव में, Wyzowl की स्टडी के मुताबिक़, सर्वे में शामिल 69 प्रतिशत कस्टमर ने कहा कि टेक्स्ट-आधारित आर्टिकल या इन्फ़ोग्राफ़िक जैसे अन्य तरीक़ों के मुकाबले वीडियो से नए प्रोडक्ट या सर्विस के बारे में जानना पसंद करेंगे.3
  3. परफ़ॉर्मेंस को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए डिजिटल, ओवर-द-टॉप (OTT), सोशल मीडिया, कंपनी ब्लॉग, ईमेल वगैरह जैसे चैनलों पर ब्रैंड की मार्केटिंग के लिए ओमनी चैनल तरीक़ा अपनाना.
  4. ब्रैंड की स्टोरी को सपोर्ट करने के लिए कॉन्टेंट मार्केटिंग से ब्रैंड की एडवरटाइज़िंग का सपोर्ट करना. Amazon Posts और Amazon Follow जैसे टूल, कंज़्यूमर कनेक्शन को इनेबल करते हैं. Amazon के परफ़ॉर्मेंस एडवरटाइज़िंग के वाइस प्रेसिडेंट कोलीन ऑब्रे के मुताबिक़, “जब कोई कस्टमर किसी ब्रैंड को फ़ॉलो करते हैं, तो वे उस ब्रैंड से आने वाले अपडेट में तुरंत विज़िबिलिटी हासिल कर लेते हैं, जिसमें नए प्रोडक्ट लॉन्च, डील, Posts शामिल हैं और जब कोई ब्रैंड Amazon Live के ज़रिए स्ट्रीम करता है, तो यह पक्का करता है कि कस्टमर कोई अवसर न गवाएँ.”

असरदार ब्रैंड मार्केटिंग से जुड़ी रणनीतियों के उदाहरण

सबसे असरदार ब्रैंड का स्पष्ट रूप से परिभाषित लक्ष्य होता है और जब कंज़्यूमर उनके साथ बातचीत करते हैं तो एक भावना पैदा होती है. वे अपने साथियों से अलग होते हैं और ब्रैंड मार्केटिंग के लिए एक व्यक्तिगत दृष्टिकोण अपनाते हैं, ताकि कंज़्यूमर को बेचा न जाए - इससे वे एक समुदाय का हिस्सा महसूस करते हैं. ब्रैंड मार्केटिंग से जुड़ी तीन असरदार रणनीतियाँ हैं जिनका इस्तेमाल Amazon Ads के साथ अपने ब्रैंड को बनाने के लिए करते हैं.

  1. ब्रैंड और प्रोडक्ट एडवरटाइज़िंग का एक साथ इस्तेमाल करना: Amazon Ads के साथ काम करने वाले कुछ ब्रैंड Sponsored Products के साथ Sponsored Brands और Stores का इस्तेमाल उन कंज़्यूमर से कनेक्ट होने के लिए करते हैं जो आपके बेचे जाने वाले कई तरह के प्रोडक्ट की ख़रीदारी कर रहे हैं और अपने जैसे प्रोडक्ट की ख़रीदारी करने वालों की दिलचस्पी और मंशा के साथ ऑडियंस तक पहुँचने के लिए कीवर्ड टार्गेटिंग करते हैं.
  2. ब्रैंडेड Amazon वेब मौजूदगी की मदद से एंगेजमेंट और बिक्री बढ़ाना: इंटरनल रिसर्च के अनुसार, प्रोडक्ट पेज से लिंक करने की तुलना में जो कंपनियाँ Sponsored Brands कैम्पेन को अपने Store से लिंक करती हैं उन्हें औसतन 17 प्रतिशत तक बेहतर रिटर्न मिलता है 4 ऐसा इसलिए है क्योंकि Stores, Amazon पर एक ब्रैंडेड मौजूदगी देते हैं, जिसे कंपनी ने वीडियो, लाइफ़स्टाइल और प्रोडक्ट इमेजरी और कॉन्टेंट के ज़रिए अपने ब्रैंड की कहानी बताने के लिए क्यूरेट किया गया है.
  3. एनालिटिक्स के ज़रिए ब्रैंड मार्केटिंग कैम्पेन को ऑप्टिमाइज़ करना: MidWest Homes for Pets ने जहाँ वे समय बिताते हैं वहाँ एडवरटाइज़िंग से जुड़ी कोशिशों का व्यू पाने के लिए Amazon Attribution का इस्तेमाल किया, जिसने बदले में उन्हें यह तय करने में मदद की कि कौन सी रणनीतियाँ ख़रीदारी गतिविधि में बढ़ोतरी कर रही थीं. लागत कुशलता के लिए ऑप्टिमाइज़ करने से कंपनी ज़्यादा बिक्री बढ़ाने और ROAS (ऐड पर ख़र्च से हुआ फ़ायदा) बेहतर कर पाई.

नतीजा

ब्रैंड मार्केटिंग, किसी ब्रैंड की ताकत पर ज़ोर देने के बारे में है, ताकि यह मार्केट में लंबे समय तक टिका रह सके. यह ब्रैंड और कंज़्यूमर के बीच रिलेशन को मजबूत बनाने पर फ़ोकस है और जब सबसे असरदार तरीक़े से किया जाता है, तो इसका इस्तेमाल मार्केटिंग ऐक्टिविटी के साथ कन्सर्ट में किया जाता है, ताकि ब्रैंड के लिए तय एट्रिब्यूट को तय किया जा सके, जिससे ब्रैंड को आगे ले जाने और विश्वसनीयता बढ़ाने में मदद मिलती है.

1Amazon Ads ब्लॉग पर Xasis पर बातचीत
2 स्ट्रेंथ ऑफ़ पर्पस स्टडी, जून 2020
3 Wyzowl के वीडियो मार्केटिंग के आँकड़े 2021
4 Amazon आंतरिक 2018