गाइड

डिजिटल एडवरटाइज़िंग क्या है? शुरुआती गाइड

डिजिटल एडवरटाइज़िंग या ऑनलाइन एडवरटाइज़िंग, ऑनलाइन चैनलों के ज़रिए ब्रैंड, प्रोडक्ट या सर्विस को प्रमोट करने के लिए कंपनियों के ज़रिए इस्तेमाल की जाने वाली मार्केटिंग का रूप है.

अपने प्रोडक्ट दिखाने और कैम्पेन बनाने के लिए, Amazon Ads का इस्तेमाल करना शुरू करें.

रजिस्टर करें

अगर आपके पास कम अनुभव है, तो Amazon Ads की ओर से मैनेज की जाने वाली सर्विस का अनुरोध करने के लिए हमसे संपर्क करें. कम से कम बजट अप्लाई होता है.

संपर्क करें

डिजिटल एडवरटाइज़िंग क्या है?

डिजिटल एडवरटाइज़िंग का मतलब ऑनलाइन चैनल के ज़रिए मार्केटिंग करना है, जैसे कि वेबसाइट, स्ट्रीमिंग कॉन्टेंट, वग़ैरह. डिजिटल ऐड टेक्स्ट, इमेज, ऑडियो और वीडियो सहित मीडिया फ़ॉर्मेट को आगे बढ़ाते हैं. वे आपको मार्केटिंग फ़नल में कई प्रकार के बिज़नेस के लक्ष्यों को पाने में मदद कर सकते हैं. इसमें ब्रैंड के बारे में जागरूकता से लेकर कस्टमर एंगेजमेंट, नए प्रोडक्ट को लॉन्च करने और बार-बार बिक्री बढ़ाने की जानकारी शामिल है.

मैगज़ीन, बिलबोर्ड और डायरेक्ट मेल जैसे पारंपरिक चैनलों की तुलना में डिजिटल एडवरटाइज़िंग का क्षेत्र अभी नया है. एडवरटाइज़िंग सिर्फ़ यह नहीं है कि ऐड किस तरह दिखते हैं या वे कहाँ दिखाई देते हैं, बल्कि यह भी है कि उन्हें कैसे बनाया, बेचा और मापा जाता है.

डिजिटल एडवरटाइज़िंग और पारंपरिक एडवरटाइज़िंग के बीच अंतर

डिजिटल एडवरटाइज़िंग और पारंपरिक एडवरटाइज़िंग के बीच मुख्य अंतर, फ़्लेक्सिबिलिटी और सटीकता है.

फ़्लेक्सिबिलिटी

फ़्लेक्सिबिलिटी का उदाहरण यह है कि डिजिटल ऐड बहुत जल्दी लाइव हो सकते हैं. पारंपरिक चैनलों के माध्यम से ऐड को प्रिंट करने और बांटने, न्यूज़पेपर भेजने, बिलबोर्ड को पेंट करने में काफ़ी समय लग सकता है. इसके विपरीत, डिजिटल एडवरटाइज़िंग का लीड टाइम बहुत कम होता है, ऐड बनने के लगभग तुरंत बाद उसे किसी वेबसाइट पर दिखाया जा सकता है. स्टैंडर्ड टेम्प्लेट के आधार पर अपने-आप जनरेट होने वाले ऐड के प्रोसेस में कुछ मिनट लग सकते हैं.

प्रिंट एडवरटाइज़िंग में किसी ऐड को पब्लिश होने के बाद बदला नहीं जा सकता है, वहीं कैम्पेन के लाइव होने के बाद भी डिजिटल ऐड फ़्लेक्सिबल होते हैं यानी उन्हें बदला जा सकता है. कुछ ख़ास चैनल के आधार पर, क्रिएटिव कॉन्टेंट, समय और फ़्रीक्वेंसी, टार्गेटिंग वगैरह में बदलाव करना संभव हो सकता है. यह ऐड चलने के दौरान उसे बदलने की अनुमति देता है जहाँ आप ऐड कैम्पेन की परफ़ॉर्मेंस के आधार पर उसमें बदलाव कर सकते हैं.

डिजिटल एडवरटाइज़िंग बजट के लिहाज से भी बेहद फ़्लेक्सिबल है. कॉम्प्लेक्स और हाई-प्रोफ़ाइल डिजिटल ऐड कैम्पेन, पारंपरिक एडवरटाइज़िंग की तरह - या उससे ज़्यादा- महंगे हो सकते हैं, लेकिन डिजिटल ऐड ख़ास बजट के बिना छोटे बिज़नेस के लिए भी उपलब्ध होते हैं. साथ ही, इसे आपके फ़ाइनेंशियल निवेश से मैच करने के लिए कम या ज़्यादा किया जा सकता है.

सटीकता

डिजिटल एडवरटाइज़िंग और पारंपरिक एडवरटाइज़िंग के बीच अन्य मुख्य अंतर सटीकता है. मैगज़ीन में, टीवी पर या बिलबोर्ड पर लगे पारंपरिक ऐड सिर्फ़ उन्हीं लोगों तक पहुँचते हैं जो उन्हें देख पाते हैं. इसके विपरीत, डिजिटल एडवरटाइज़िंग की मदद से आप ज़्यादा सटीक और आपके ऐड में रुचि रखने वाली ऑडियंस तक पहुँचने के लिए टार्गेटिंग के अलग-अलग तरीकों का इस्तेमाल कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, अगर आप आउटडोर प्रोडक्ट बेचते हैं, तो आप उन ऑडियंस तक पहुँचने का विकल्प चुन सकते हैं, जो लंबी पैदल यात्रा करने में रुचि रखते हैं या उन ख़रीदार को फिर से एंगेज कर सकते हैं, जिन्होंने आपके प्रोडक्ट को ब्राउज़ तो किया है, लेकिन ख़रीदा नहीं है. फ़ॉर्मेट के आधार पर, आप अपने ऐड को दिन के कुछ ख़ास समय तक सीमित करने का विकल्प चुन सकते हैं या उन ऑडियंस को हटा सकते हैं, जिन्होंने आपके ऐड को पहले ही देख लिया है.

डिजिटल एडवरटाइज़िंग क्यों अहम है?

ऐसी कई वजहें हैं कि डिजिटल ऐड किसी भी बिज़नेस की मार्केटिंग रणनीति का एक अहम हिस्सा है. शायद सबसे अहम यह है कि कंज़्यूमर अपने कंप्यूटर, स्मार्टफ़ोन और स्मार्ट होम डिवाइस के माध्यम से इंटरनेट पर ज़्यादा से ज़्यादा समय बिता रहे हैं. अमेरिकी घर में औसतन 10 से ज़्यादा कनेक्ट किए हुए डिवाइस का ऐक्सेस है.1 डिजिटल मार्केटिंग से आप सीधे ऑडियंस से जुड़ सकते हैं.

लोग दिन के हर समय, सभी प्रकार की गतिविधियों के दौरान अपने द्वारा ख़रीदी गए सामान और सेवाओं के बारे में फैसले लेते हैं. डिजिटल ऐड की मदद से, आप ऑडियंस तक उस समय पहुँच सकते हैं, जब वे प्रोडक्ट को ख़रीदने के लिए ऑनलाइन ब्राउज़ कर रहे हों. या जब वे टीवी शो स्ट्रीम कर रहे हों, किसी पसंदीदा वेबसाइट पर जा रहे हों या सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हों, तब भी आप उन तक पहुँच सकते हैं. यहाँ तक कि अगर वे उस समय आपसे ख़रीदारी नहीं करते हैं, तो इन अलग-अलग कॉन्टेक्स्ट में उन तक पहुँचने से उन्हें बाद में आपके ब्रैंड को याद रखने में मदद मिल सकती है, जब वे ख़रीदारी के लिए तैयार हों.

डिजिटल एडवरटाइज़िंग के अलग-अलग प्रकार क्या हैं?

डिजिटल मार्केटिंग में कई तरह के एडवरटाइज़िंग फ़ॉर्मेट होते हैं. ये कुछ सबसे कॉमन फ़ॉर्मेट हैं:

सर्च एडवरटाइज़िंग

सर्च एडवरटाइज़िंग

सर्च ऐड, जिसे सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) भी कहा जाता है, ये सर्च इंजन नतीजों वाले पेज (SERP) में दिखाई देते हैं. ये आम तौर पर टेक्स्ट ऐड होते हैं जो ऑर्गेनिक शॉपिंग रिज़ल्ट के ऊपर या उसके साथ दिखाई देते हैं.

डिस्प्ले एडवरटाइज़िंग

डिस्प्ले एडवरटाइज़िंग

डिस्प्ले ऐड ऐसे ऑनलाइन ऐड होते हैं जो टेक्स्ट और विज़ुअल एलिमेंट का इस्तेमाल करते हैं, जैसे कि इमेज या ऐनिमेशन. यह वेबसाइट, ऐप और डिवाइस पर दिखाई दे सकते हैं. वे किसी वेबसाइट के कॉन्टेंट में या उसके बगल में दिखाई देते हैं.

ऑनलाइन वीडियो एडवरटाइज़िंग

ऑनलाइन वीडियो एडवरटाइज़िंग

ऑनलाइन वीडियो ऐड वे होते हैं जो वीडियो फ़ॉर्मेट का इस्तेमाल करते हैं. आउट-स्ट्रीम वीडियो ऐड, डिस्प्ले ऐड वाली जगहों में दिखाई देते हैं: वेबसाइट, ऐप और डिवाइस पर. इन-स्ट्रीम वाले वीडियो ऐड, वीडियो कॉन्टेंट के पहले, उसके दौरान या उसके बाद दिखाई देते हैं.

स्ट्रीमिंग मीडिया एडवरटाइज़िंग

स्ट्रीमिंग मीडिया एडवरटाइज़िंग

इसे ओवर-द-टॉप (OTT) के नाम से भी जाना जाता है, ये ख़ास तरह के वीडियो ऐड हैं, जो सैटेलाइट या केबल के बिना इंटरनेट पर डिलीवर किए गए मीडिया कॉन्टेंट को स्ट्रीम करने के दौरान दिखाई देते हैं.

ऑडियो एडवरटाइज़िंग

ऑडियो एडवरटाइज़िंग

डिजिटल एडवरटाइज़िंग के कॉन्टेक्स्ट में, ऑडियो ऐड वे होते हैं जो ऑनलाइन ऑडियो कॉन्टेंट से पहले, उसके दौरान या बाद में चलाए जाते हैं, जैसे कि स्ट्रीमिंग म्यूज़िक या पॉडकास्ट.

सोशल मीडिया एडवरटाइज़िंग

सोशल मीडिया एडवरटाइज़िंग

सोशल मीडिया ऐड, सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर दिखाई देते हैं. जैसे कि Twitter या LinkedIn.

डिजिटल ऐड कैसे काम करते हैं?

इस सवाल का कोई जवाब नहीं है, "डिजिटल ऐड कैसे काम करते हैं?" कई प्रकार के डिजिटल ऐड फ़ॉर्मेट के साथ, आप ऐसे ऐड पा सकते हैं जो बनाने और पब्लिश करने में आसान हैं. साथ ही, ऐसे ऐड भी हैं जिनके लिए ज़्यादा कॉम्प्लेक्स टूल की ज़रूरत होती है. बजट के सभी लेवल के लिए अलग-अलग प्राइसिंग मॉडल और टार्गेटिंग के तरीक़ों वाले ऐड के प्रकार भी हैं.

डिजिटल ऐड पब्लिश करना

डिजिटल ऐड कैसे पब्लिश होते हैं, यह ऐड के प्रकार से तय किया जाता है. कुछ ऐड के साथ, आप एडवरटाइज़िंग इन्वेंट्री ख़रीद सकते हैं—सीधे पब्लिशर से—यानी किसी दी गई वेबसाइट या पब्लिशर पर ऐड के लिए जगह. उदाहरण के लिए, Sponsored Brands और Sponsored Products ऐसे ऐड हैं जो सिर्फ़ Amazon पर दिखाई देते हैं.

डिजिटल ऐड को प्रोग्रामेटिक रूप से भी ख़रीदा जा सकता है. प्रोग्रामैटिक एडवरटाइज़िंग डिजिटल एडवरटाइज़िंग इन्वेंट्री की ऑटोमेटेड ख़रीद और बिक्री है. इसमें डिस्प्ले एडवरटाइज़िंग और वीडियो एडवरटाइज़िंग शामिल है. आप डिमांड-साइड प्लेटफ़ॉर्म (DSP) का इस्तेमाल कर सकते हैं जो एक सॉफ़्टवेयर है. यह कई पब्लिशर से डिजिटल एडवरटाइज़िंग इन्वेंट्री की ख़रीद और मैनेजमेंट को ऑटोमेट करता है. यह सप्लाई-साइड प्लेटफ़ॉर्म या सेल-साइड प्लेटफ़ॉर्म (SSP) सॉफ़्टवेयर है जिसका इस्तेमाल पब्लिशर के ज़रिए अपनी एडवरटाइज़िंग इन्वेंट्री की बिक्री और मैनेजमेंट को ऑटोमेट करने के लिए किया जाता है.

डिजिटल एडवरटाइज़िंग की लागत

डिजिटल एडवरटाइज़िंग की लागत भी फ़ॉर्मेट के अनुसार अलग-अलग होती है. सामान्य प्रकार की प्राइसिंग प्रति-क्लिक-लागत (CPC) या हर क्लिक पर पेमेंट (PPC) है. इस प्राइसिंग मॉडल के हिसाब से, आप हर बार किसी के ऐड पर क्लिक करने के बाद पेमेंट करते हैं. अन्य प्रकार प्रति-लागत-मील (CPM) है, जिसका मतलब है प्रति-हज़ार-इम्प्रेशन-लागत. यह एक प्राइसिंग मॉडल है जहाँ आप 1,000 इम्प्रेशन या आपका ऐड जितनी बार दिखाई देता है, उसके लिए एक तय राशि का भुगतान करते हैं .

आप अन्य मॉडल का इस्तेमाल करके भी भुगतान कर सकते हैं, जैसे कि आपके ऐड की तय की गई कार्रवाई के लिए हर बार भुगतान करना (जैसे, कोई व्यक्ति आपकी ईमेल लिस्ट के लिए साइन अप करता है या आपकी ई-बुक डाउनलोड करता है). डिजिटल एडवरटाइज़िंग को कई अलग-अलग तरीक़ों से मापा जा सकता है - ऐड कितनी बार दिखाई देता है, क्लिक किया जाता है, प्रोडक्ट ख़रीदा जाता है वग़ैरह. प्राइसिंग, ऐड के तय किए गए फ़ंक्शन के हिसाब से सेट की जा सकती है.

डिजिटल ऐड के लिए टार्गेटिंग

जैसा कि ऊपर बताया गया है, डिजिटल एडवरटाइज़िंग, एडवरटाइज़िंग के अन्य पारंपरिक फ़ॉर्म की तुलना में बहुत ज़्यादा सटीक है. ऐसे कई तरीके हैं जिनसे ऐड ऑडियंस के साथ मैच करते हैं, जो ऐड के प्रकार पर निर्भर करते हैं. सर्च ऐड को ख़ास शॉपिंग टर्म पर टार्गेट किया जाता है. ऐड का मैच ख़रीदारी सिग्नल के आधार पर भी किया जा सकता है. जैसे कि वह ऑडियंस जिसने आपसे सम्बंधित प्रोडक्ट ख़रीदे हैं या आपके बेचे हुए प्रोडक्ट के प्रकार में दिलचस्पी दिखाई है.

इस सटीक मैचिंग क्षमता का मतलब यह है कि ऑडियंस ऐसे ऐड देख सकती हैं, जो उनकी रुचि से सम्बंधित हो सकते हैं. सम्बंधित ऑडियंस तक पहुँचने से आपके डिजिटल ऐड की सफलता बढ़ जाती है और आपको ऐसी ऑडियंस के लिए ऐड देने पर अपना मार्केटिंग बजट ख़र्च नहीं करना पड़ता, जो आपके प्रोडक्ट या सर्विस में दिलचस्पी नहीं रखते हैं.

डिजिटल एडवरटाइज़िंग मेट्रिक

डिजिटल ऐड को परफ़ॉर्मेंस के लगभग हर पहलू में मापा जा सकता है. अपने डिजिटल ऐड कैम्पेन को मापने के लिए, आप इन एंगेजमेंट मेट्रिक का इस्तेमाल कर सकते हैं:

  • क्लिक: आपके ऐड को कितनी बार क्लिक किया जाता है
  • इम्प्रेशन: आपका ऐड कितनी बार दिखाई देता है
  • क्लिक-थ्रू रेट (CTR): इम्प्रेशन का प्रतिशत जिसके चलते क्लिक होता है
  • पहुँच: आपका ऐड कितने व्यूअर को दिखाया जाता है
  • पूरा वीडियो देखने का रेट: आपका वीडियो ऐड दिखाने वाले व्यूअर कितनी बार पूरा ऐड देखते हैं

ये मेट्रिक आपके कैम्पेन के नतीजों को मापते हैं:

  • कन्वर्शन रेट: आपके ऐड को देखने के बाद कस्टमर ने कितनी बार पसंदीदा ऐक्शन (क्लिक, ख़रीद, सब्सक्रिप्शन) लिए
  • ऐड-एट्रिब्यूटेड बिक्री: ऐसी ख़रीदारी जिसे आपके ऐड पर वापस देखा जा सकता है (एट्रिब्यूशन मॉडल ऐड का प्रकार और सर्विस के अनुसार अलग-अलग होते हैं)
  • ऐड पर ख़र्च से हुआ फ़ायदा (ROAS): आपने कितना बजट ख़र्च किया है, इसके बदले में आपके ऐड कैम्पेन से कितना रेवेन्यू जनरेट हुआ है
  • इनवेस्टमेंट पर फ़ायदा (ROI): आपने कितना बजट ख़र्च किया है, इसके बदले में आपने अपने ऐड कैम्पेन से कितना नेट प्रॉफ़िट कमाया है
  • बिक्री पर एडवरटाइज़िंग लागत (ACOS): ऐड-एट्रिब्यूटेड बिक्री के लिए ऐड पर ख़र्च का अनुपात
  • ब्रैंड में नई बिक्री: उन कस्टमर ने कितनी ख़रीदारी की, जिन्होंने आपसे पहले कभी कुछ नहीं ख़रीदा था

डिजिटल एडवरटाइज़िंग के बेहतरीन तरीक़े और टिप्स

डिजिटल एडवरटाइज़िंग रणनीति मुश्किल हो सकती है, लेकिन कुछ मुख्य बेहतरीन तरीक़े हैं जिनके साथ आपको शुरुआत करनी चाहिए:

सही ऑडियंस तक पहुँचें

डिजिटल एडवरटाइज़िंग की टार्गेटिंग का फ़ायदा उठाएँ, ताकि आप उन सम्बंधित ऑडियंस तक पहुँचें, जिनकी आपके ऐड में दिलचस्पी हो सकती है और उनके एंगेज होने की संभावना ज़्यादा होती है.

परफ़ॉर्मेंस ट्रैक करें

डिजिटल ऐड के परफ़ॉर्मेंस मेट्रिक को पारंपरिक ऐड फ़ॉर्मेट की तुलना में रियल-टाइम के करीब ट्रैक किया जा सकता है. आपका ऐड कैम्पेन कैसा परफ़ॉर्म कर रहा है, इस बारे में अप-टू-डेट रहें, ताकि आप देख सकें कि क्या हो रहा है और क्या नहीं और अपने ऐड पर बेहतर तरीक़े से ख़र्च करें.

टेस्ट और ऑप्टिमाइज़ करना

आप डिजिटल ऐड के लगभग हर पहलू को कस्टमाइज़ कर सकते हैं, कॉपी से लेकर विज़ुअल एसेट तक, आप किन ऑडियंस सेगमेंट तक पहुँच रहे हैं, आपका बजट कितना है, वग़ैरह. अपने डिजिटल ऐड कैम्पेन में सफलता पाने का सबसे अच्छा तरीका परफ़ॉर्मेंस को बढ़ाने के लिए टेस्टिंग वैरिएबल रखना है. ऑप्टिमाइज़ेशन को अपने कैम्पेन के एक्ज़ीक्यूशन का ज़रूरी हिस्सा बनाएँ.

भरोसेमंद बनना

डिजिटल ऐड ज़्यादा बेहतर होते जा रहे हैं. साथ ही, आपकी ऑडियंस भी. ऑनलाइन ऑडियंस समझदार होती हैं, इसलिए आसानी से न पढ़ी जा सकने वाली कॉपी या अप्रासंगिक ऐड कॉन्टेंट से आपको सफलता नहीं मिलेगी. आपकी डिजिटल एडवरटाइज़िंग रणनीति के सभी पहलुओं में - आपके विज़ुअल एसेट, आपकी मैसेजिंग, यहाँ तक कि आप किन ऑडियंस तक पहुँचने का विकल्प चुनते हैं - आपको ऑडियंस को जो ऑफ़र करना है, यह सब पहले ही तय करके रखें, ताकि आप असल में अपनी ऑडियंस को एंगेज कर सकें.

अगर आपको अतिरिक्त सहायता और गाइडेंस चाहिए, तो Amazon Ads द्वारा मैनेज की जाने वाली सर्विस का अनुरोध करने के लिए संपर्क करें. कम से कम बजट अप्लाई होता है.

1 Statista, 2021.

सुझाए गए सोल्यूशन

Sponsored Products

कस्टमर को Amazon पर अपने प्रोडक्ट खोजने में मदद करने के लिए, प्रति-क्लिक-लागत वाले ऐड बनाएँ.

Sponsored Brands

कस्टमर को सम्बंधित Amazon शॉपिंग नतीजे में दिखने वाले क्रिएटिव ऐड की मदद से अपने ब्रैंड और प्रोडक्ट खोजने में मदद करें.

Sponsored Display

Sponsored Display, डिस्प्ले एडवरटाइज़िंग सोल्यूशन है जिसे सभी तरह के बिज़नेस के लिए डिज़ाइन किया गया है, चाहे वे Amazon स्टोर में बेचते हों या नहीं.