गाइड

सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM)

परिभाषा, महत्व और इसके काम करने का तरीक़ा

सर्च इंजन नतीजों में आपके ब्रैंड और कॉन्टेंट को ऊपर दिखाने में मदद के लिए एडवरटाइज़ करने का प्रोसेस ही सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) है. SEM, कंपनियों को टार्गेट ऑडियंस तक पहुँचने और सर्च इंजन में उनकी विज़िबिलिटी को बेहतर बनाने में मदद के लिए एक हर क्लिक पर पेमेंट मॉडल का इस्तेमाल करता है.

अपने प्रोडक्ट दिखाने और कैम्पेन बनाने के लिए Amazon Ads का इस्तेमाल करना शुरू करें.

कस्टमर को Amazon पर अपने प्रोडक्ट खोजने में मदद करने के लिए, प्रति-क्लिक-लागत वाले ऐड बनाएँ.

कस्टमर को सम्बंधित Amazon शॉपिंग नतीजे में दिखने वाले अपने ब्रैंड और प्रोडक्ट को क्रिएटिव ऐड के ज़रिेए खोजने में मदद करें.

कस्टमर के एक्सपीरिएंस को ऑप्टिमाइज़ करने वाली इनसाइट और सिग्नल का इस्तेमाल करें और अपने ब्रैंड की बिक्री बढ़ाएँ.

आज के दौर में, जब आप किसी चीज़ के बारे में ज़्यादा जानना चाहते हैं, तो हो सकता है कि आप तुरंत जवाब पाने के लिए अपने सवाल को किसी सर्च इंजन में टाइप करें. दुनिया भर के कई कंज़्यूमर सर्च इंजन इस्तेमाल करते हैं ताकि उन्हें कॉन्टेंट, जानकारी और अपने सवालों के जवाब पाने में मदद मिल सके. एडवरटाइज़र सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) या पेमेंट वाला सर्च कही जानी जाने वाली डिजिटल मार्केटिंग रणनीति के ज़रिए प्रोडक्ट, ब्रैंड या वेबसाइट पर विज़िबिलिटी बढ़ाने में मदद पाने के इरादे से सर्च इंजन रिज़ल्ट पेज (SERP) भी इस्तेमाल करते हैं.

SEM ऐसा एक तरीक़ा है जिसके ज़रिए मार्केटर प्रतिस्पर्धी मार्केटप्लेस में आपके बिज़नेस को आगे बढ़ा सकते हैं. इस गाइड में, आपको SEM की मूल बातें, टिप्स और रणनीतियों के बारे में शुरुआती लोगों के लिए ओवरव्यू मिलेगा.

सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) क्या है?

सर्च इंजन मार्केटिंग को SEM या पेमेंट वाला सर्च भी कहा जाता है. एडवरटाइज़र द्वारा पेमेंट की गई इस डिजिटल मार्केटिंग रणनीति का इस्तेमाल SERP के ज़रिए ऑडियंस के लिए अपनी वेबसाइट या प्रोडक्ट की विज़िबिलिटी बढ़ाने के लिए किया जाता है.

SEM से जुड़े टिप्स और रणनीतियों के बारे में बताने से पहले हम आपको इसकी शुरुआत के बारे में बताना चाहते हैं. इंटरनेट का इस्तेमाल शुरू होने के बाद, एडवरटाइज़र को सर्च इंजन की वजह से मार्केटिंग रणनीतियों में SERP का फ़ायदा उठाने का मौका मिला. OpenText Corporation कंपनी ने सबसे पहले हर क्लिक पर पेमेंट (PPC) वाले ऐड बनाए थे, इनके चलते SEM का पहला तरीक़ा सामने आया था.1 हालाँकि, 2001 तक मार्केटिंग रणनीति को उसके ऑफ़िशियल नाम के तौर पर नहीं जाना गया था.2 टेक्नोलॉजिस्ट और पत्रकार डैनी सुलिवन की ओर से अपने सर्च इंजन मार्केटिंग पब्लिकेशन के लिए लिखे गए एक लेख में इस शब्द का इस्तेमाल किए जाने पर उसे यह नाम दिया गया था.3

यूज़र इंटरैक्शन

इसी शब्द की वजह से, SEM को अपनी एक अलग ही मार्केटिंग फ़ील्ड के तौर पर पहचान बनाने में मदद मिली है. ज़्यादा से ज़्यादा डिवाइस पर कंज़्यूमर को इंटरनेट ब्राउज़ करने, सोशल मीडिया पर पोस्ट करने और नए प्रोडक्ट के बारे में ज़्यादा जानने की सुविधा मिलने के साथ ही सर्च इंजन ने भी ऑडियंस को कॉन्टेंट और वेबसाइट के बारे गाइड करने में मदद की. आगे चलकर, SEM एडवरटाइज़र के बीच काफ़ी मशहूर हो गया. आज की तारीख़ में, यह अरबों डॉलर की इंडस्ट्री है.4 यहाँ वे सभी बातें बताई गई हैं जो आपको SEM के बारे में पता होनी चाहिए.

SEM क्यों ज़रूरी है?

SEM से ब्रैंड को जागरूकता बढ़ाने में मदद मिलती है. इस तरह से, सर्च इंजन पर किसी ब्रैंड के दिखाई देने वाले ऐड की संख्या या रैंक जितनी ज़्यादा होती है, उतनी ही ज़्यादा गुंज़ाइश होती है कि ऑडियंस की ओर से उन ऐड को देखा जा रहा हो. SERP में सबसे ऊपर मौजूद होने पर ब्रैंड को जागरूकता, ख़रीदने पर विचार करने और भरोसा बढ़ाने में मदद मिल सकती है.

इसके अलावा, SEM मार्केटर के लिए ऐसा अहम तरीक़ा साबित हो सकता है जिससे वे SERP के ज़रिए वेबसाइट, लैंडिंग पेज और प्रोडक्ट पेज पर ज़्यादा ट्रैफ़िक बढ़ा सकते हैं. SEM का एकमात्र मकसद ऑडियंस के ज़्यादा विज़िट जनरेट करने के लिए कई तरह की टेकनीक और रणनीतियां इस्तेमाल करके वेबसाइट की विज़िबिलिटी को बढ़ाना है. मार्केटर वेबसाइट की विज़िबिलिटी बढ़ाने के लिए पेमेंट वाला सर्च, संदर्भ के अनुसार एडवरटाइज़िंग और ऑर्गेनिक सर्च रैंक का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

पेमेंट किए गए ऐड के मामले में, SEM से मार्केटिंग के दूसरे देर से नतीजा देने वाले तरीकों के मुकाबले बेहतर क्लिक-थ्रू रेट (CTR) और ज़्यादा कन्वर्ज़न मिल सकते हैं. साथ ही, इसके PPC मॉडल से बिज़नेस को आसानी से अपने हिसाब से कैम्पेन तैयार करने की सुविधा मिलती है और ब्रैंड को ख़ास कीवर्ड पर फ़ोकस करने की सुविधा मिलती है, ताकि उन्हें सम्बंधित ऑडियंस तक पहुँचने में मदद मिल सके.

SEO और SEM में क्या फ़र्क़ है?

आपने सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (SEO) के बारे में तो सुना ही होगा. इस अहम मार्केटिंग रणनीति की मदद से ब्रैंड कंज़्यूमर का ध्यान अपनी ओर खींच सकते हैं और वेबसाइट पर ट्रैफ़िक बढ़ा सकते हैं. ऐसा करके वे अपने बिज़नेस को आगे बढ़ा सकते हैं. लेकिन SEM और SEO के बीच के फ़र्क की जानकारी होना ज़रूरी है.

सबसे बड़ा फ़र्क यह है कि SEM की ओर से SERP में दिखाई देने के लिए पेमेंट की गई रणनीतियाँ इस्तेमाल की जाती हैं, जबकि SEO की ओर से सर्च में दिखाई देने के लिए ऑर्गेनिक रणनीतियाँ इस्तेमाल की जाती हैं. SEM की ओर से SERP पर सबसे ज़्यादा रैंक पाने और सर्च विज़िबिलिटी बढ़ाने के लिए पेमेंट किए गए तरीक़ों का इस्तेमाल किया जाता है, ताकि वेबसाइट या ख़ास वेब पेज पर ट्रैफ़िक बढ़ाने में मदद मिल सके. ऐड को सेट और ऑप्टिमाइज़ करने के साथ ही ऐड के प्लेसमेंट के लिए पेमेंट करने वाला बजट सेट करना इन तरीक़ों का उदाहरण होगा.

सर्च इंजन मार्केटिंग कैसे काम करती है?

सर्च इंजन रिज़ल्ट पेज (SERP) में आपके ब्रैंड के प्रोडक्ट या सर्विस को सर्च किया जा सकता है, इस बात को पक्का करने के लिए SEM की ओर से पेमेंट किए गए एडवरटाइज़िंग का इस्तेमाल किया जाता है. किसी यूज़र की ओर से एक ख़ास कीवर्ड या शॉपिंग टर्म लिखे जाने पर SEM आपके ब्रैंड को उस सर्च क्वेरी के नतीजे के तौर पर दिखाने लायक बनाता है. एडवरटाइज़र इम्प्रेशन के हिसाब से पेमेंट करते हैं. इससे विज़िटर को आपकी वेबसाइट, लैंडिंग पेज, सोशल मीडिया चैनल या प्रोडक्ट पर लाने में मदद मिल सकती है.

आसान शब्दों से कहें, तो मार्केटर किसी ख़ास कीवर्ड को SERP में सबसे ऊपर दिखाने के लिए पेमेंट या बिडिंग करते हैं.

कीवर्ड और अकाउंट का स्ट्रक्चर

हमने पहले ही बताया है कि सर्च इंजन प्रोवाइडर को आम तौर से पेमेंट वाले सर्च की रणनीतियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है. यहीं पर आकर ब्रैंड कीवर्ड के लिए रिसर्च करते हैं और आपकी इंडस्ट्री, प्रोडक्ट या सर्विस से संबंधित खास कीवर्ड के हिसाब से कैम्पेन बनाते हैं. जब यूज़र उन कीवर्ड को सर्च करते हैं, तो उन्हें SERP के सबसे ऊपरी या निचले हिस्से में स्पॉन्सर्ड ऐड मिल सकता है. अगर यूज़र ऐड पर क्लिक करते हैं, तो यूज़र की ओर से ऐड पर क्लिक करने के एवज़ में हर बार ब्रैंड से पेमेंट लिया जाता है. इसे प्रति-क्लिक-लागत या हर क्लिक पर पेमेंट एडवरटाइज़िंग के तौर पर जाना जाता है.

SEM रणनीति बनाने का तरीक़ा

शुरुआती लोगों की इस गाइड का मक़सद उन्हें यह समझाना है कि SEM क्या है और आप अपने बिज़नेस को आगे बढ़ाने में मदद पाने के लिए इसे किस तरह इस्तेमाल कर सकते हैं, इसलिए यहाँ हमने SEM रणनीति तैयार करने में मदद देने के लिए सात आसान स्टेप बताए हैं:

  1. सटीक लक्ष्य सेट करें: जब यूज़र को SERP के सबसे ऊपर आपका ऐड मिलता है और वह उस पर क्लिक करता है, तो आप उनकी ओर से अपनी साइट पर क्या किए जाने की उम्मीद रखते हैं? क्या आप चाहते हैं कि वे कोई प्रोडक्ट ख़रीदें या ऐप डाउनलोड करें? आपके कैम्पेन के लिए KPI और OKR क्या हैं? अगर आप इस बारे में साफ़ राय रखते हैं कि कस्टमर के आपकी साइट या प्रोडक्ट पर पहुँच जाने के बाद आपको उनसे क्या किए जाने की उम्मीद है, तो आपको अपने SEM लक्ष्य तक पहुँचने में मदद मिलेगी.
  2. देखें कि दूसरे क्या कर रहे हैं: बोलियां लगाने से पहले, थोड़ी बहुत रिसर्च कर लेना अच्छा रहता है. अपनी कैटेगरी में पेमेंट वाले सर्च के तौर-तरीकों को जान लेना अहम है. देखें कि आपकी कैटेगरी में आने वाले कीवर्ड के हिसाब से किसके ऐड की रैंकिंग सबसे ज़्यादा है. यह रिसर्च कर लेने से आपको अपनी रणनीति और टेकनीक के बारे में जानकारी पाने में मदद मिल सकती है.
  3. PPC सर्च इंजन चुनें: अलग-अलग सर्च इंजन की ओर से अलग-अलग वैल्यू ऑफ़र की जाती हैं. कुछ में बेहद ज़्यादा सर्च वॉल्यूम हैं, लेकिन यहाँ PPC के रेट महँगे हो सकते हैं. ऐसा सर्च इंजन चुनें जो आपकी ज़रूरतों के मुताबिक हो.
  4. सम्बंधित कीवर्ड के लिए रिसर्च करें: अगर कामयाबी पाना है, तो PPC कैम्पेन में ब्रैंड या प्रोडक्ट के लिए सही कीवर्ड चुनना बहुत मायने रखता है. आप अपने लक्ष्य के हिसाब से ऐसे कीवर्ड चुनना चाहेंगे जिनमें अलग-अलग लेवल वाले सर्च वॉल्यूम मौजूद हों. कीवर्ड रणनीति के बारे में ज़्यादा जानें.
  5. बजट सेट करें: SEM महँगा साबित हो सकता है. ख़र्च शुरू करने से पहले रिसर्च करें और एडवरटाइज़िंग बजट सेट करें. कभी-कभी, बिज़नेस SEM बजट बनाने की रणनीतियों से जुड़े गाइडेंस पाने में मदद के इरादे से PPC एडवरटाइज़िंग एजेंसी की सलाह ले सकते हैं.
  6. क्रिएटिव बनें: दिलचस्पी जगाने वाले ऐड की मदद से आप ऑडियंस को अपनी ओर खींच सकते हैं. इसलिए, अपने ऐड में इस्तेमाल किए जा रहे क्रिएटिव और कॉपी के बारे में सोचें और विचार करें कि ऐसी कौन सी चीज़ है जिससे आपके ब्रैंड को सबसे अलग दिखने में मदद मिलेगी.
  7. आज़माकर देखें और कुछ नया करें: हमेशा ऐसा नहीं होता है कि SEM आपको तुरंत कामयाबी दिला दे. बल्कि, इसके नतीजे सामने आने में कुछ वक्त लग सकता है. अपनी SEM रणनीति को आज़मा कर देखें, अपने कीवर्ड के बारे में फिर से सोचें या अगर आपको अपने मनचाहे नतीजे नहीं मिल रहे हैं तो अपने बजट में बदलाव करें.

Amazon के शॉपिंग नतीजे में एडवरटाइज़िंग करें

जहाँ कस्टमर समय बिताते हैं वहाँ के शॉपिंग रिज़ल्ट में विज़िबिलिटी और अपने प्रोडक्ट की बिक्री बढ़ाने में मदद पाने के लिए, बेहतरीन SEM रणनीति तैयार करना एक असरदार तरीक़ा साबित हो सकता है. साथ ही, Amazon Ads के Sponsored Products से Amazon पर सम्बंधित शॉपिंग नतीजे और प्रोडक्ट पेज पर दिखाई देने वाले ऐड बनाकर आपके प्रोडक्ट की बिक्री बढ़ाने में मदद मिल सकती है. कई जगहों पर दिखाई देने की वजह से, आपको अपने प्रोडक्ट के ऑफ़र खरीदारों की नज़रों में लाने में मदद मिल सकती है. जानें कि Sponsored Products आपकी मार्केटिंग रणनीति में किस तरह मदद कर सकते हैं.

1-3 "Google के सर्च एल्गोरिदम के मास्टर में सवाल-जवाब मौजूद होते हैं,” Smallbiztrends.com, 5 सितंबर, 2017.
4 “सर्च इंजन की ग्लोबल मार्केट में हिस्सेदारी 2010-2022,” Statista, Global, मार्च 2022