एडवरटाइज़िंग रणनीति

प्रभावी मार्केटिंग रणनीति कैसे बनाएँ

एडवरटाइज़िंग रणनीति क्या होती है?

रणनीति का आइकॉन

एडवरटाइज़िंग रणनीति का मतलब है कि ब्रैंड का अपनी टार्गेट ऑडियंस तक पहुँचने के लिए लंबे समय तक चलने वाला प्लान. मार्केटिंग रणनीति में प्रोडक्ट और प्राइसिंग के साथ-साथ ब्रैंड मार्केटिंग और प्रोडक्ट के प्रमोशन को शामिल किया जाता है.

आपके ब्रैंड की मार्केटिंग रणनीति में एडवरटाइज़िंग से लेकर आपके ब्रैंड के बारे में नए कस्टमर की जागरूकता बढ़ाने, ख़रीदारी करने से लेकर कस्टमर को बार-बार आने वाले विज़िटर में बदलने तक सब कुछ शामिल होना चाहिए. अपने ब्रैंड के विकास और मार्केटिंग कोशिशों के लिए मार्केटिंग रणनीति इंटरनल रूप से एक फ़ायदेमंद रिसोर्स होगी और इसे अपने ब्रैंड को बाहरी ऑडियंस को शोकेस करने के लिए पिच डेक या प्रेजेंटेशन में भी बदला जा सकता है.

मार्केटिंग रणनीतियों के कई प्रकार हैं: एडिटोरियल रणनीतियाँ, मोबाइल रणनीतियाँ, कॉन्टेंट रणनीतियाँ, सोशल मीडिया से संबंधित रणनीतियाँ, इनफ़्लुएंसर रणनीतियाँ वगैरह. मूल रूप से, आप किसी भी तरह के प्रोडक्ट के लिए मार्केटिंग रणनीति बना सकते हैं, चाहे वह फ़िज़िकल कॉन्टेंट हो या डिजिटल. रणनीति होने से उस प्रोडक्ट को ऐसे कंज़्यूमर के सामने लाने में मदद मिलेगी, जो इसे लेना चाहते हैं या जिन्हें इसकी बहुत ज़रूरत है.

मार्केटिंग रणनीति का एक अहम कॉम्पोनेंट इसकी तरकीबें या आपकी रणनीति को पूरा करने और बेहतर बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले टूल हैं. मार्केटिंग रणनीति के उदाहरणों में आपके ब्रैंड के प्रोडक्ट या कॉन्टेंट की केस स्टडी, पेमेंट करके की गई मार्केटिंग या अन्य कैटेगरी शामिल हैं. ये रणनीति आपके द्वारा चुनी गई मार्केटिंग रणनीति के प्रकार के आधार पर अलग-अलग होगी.

मार्केटिंग रणनीति की अवधि अलग-अलग हो सकती है, चाहे वह सालाना या तीन महीनों के आधार पर अपडेट की गई हो या किसी अन्य समय सीमा के लिए. आप अपनी व्यापक मार्केटिंग रणनीति को अलग-अलग कैम्पेन के लिए अलग-अलग इटरेशन में भी एडेप्ट कर सकते हैं. इसके बावजूद, आपके ब्रैंड के मार्केटिंग लक्ष्यों, प्रोडक्ट और प्रमोशन के लिए समर्पित रूपरेखा का होना ज़रूरी है.

एडवरटाइज़िंग रणनीतियाँ अहम क्यों हैं?

एडवरटाइज़िंग रणनीति से आपके ब्रैंड को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है. मार्केटिंग रणनीति बनाने के लिए बहुत सारे रिसोर्स हैं और एक अच्छी रणनीति आपके प्रोडक्ट की सभी जानकारी बताएगी, आपके संभावित कस्टमर कौन हैं और आप उन तक किस तरह पहुँचेंगे, यह जानकारी भी देगी.

एक अच्छी मार्केटिंग या एडवरटाइज़िंग रणनीति आपके बिज़नेस के सभी तीन पहलुओं के बारे में बताएगी और यह आपके ब्रैंड के प्रतिस्पर्धियों या संबंधित कंपनियों के बारे में मार्केट रिसर्च से जुड़ी समस्या को भी दूर कर सकती है. मार्केटिंग रणनीति होने से आपको इस सवाल का जवाब देने में मदद मिलेगी कि सबसे पहले क्या करना है: जैसे, क्या आपको अपने ब्रैंड के मैसेज के बारे में जागरूकता बढ़ाकर शुरुआत करनी चाहिए या क्या आपके पास मौजूदा ऑडियंस हैं जिन्हें आप नए प्रोडक्ट के बारे में बताना चाहते हैं? आपकी मार्केटिंग रणनीति कस्टमर के सामने आने वाली परेशानियों के बारे में जागरूकता बढ़ाने में और आपका ब्रैंड उन्हें हल करने में किस तरह मदद कर सकता है, इसमें मदद कर सकती है. एक बार जब आपके पास अपने मार्केटिंग लक्ष्यों का स्पष्ट विज़न होता है, तो आप उन लक्ष्यों को पाना शुरू कर सकते हैं और हर कदम पर अपनी प्रगति को माप सकते हैं.

मार्केटिंग रणनीतियाँ बनाम मार्केटिंग प्लान

मार्केटिंग प्लान, मार्केटिंग रणनीतियों के अंदर आते हैं. मार्केटिंग रणनीति संभावित कस्टमर के लिए कंपनी के लक्ष्यों का बड़ी-तस्वीर है और मार्केटिंग प्लान इन लक्ष्यों को हासिल करने के लिए छोटे स्टेप वाली रणनीति के भीतर आते हैं. उदाहरण के लिए, एक मार्केटिंग रणनीति में किसी टच पॉइंट की पहुँच को बढ़ाना लक्ष्य होगा और एक असरदार मार्केटिंग प्लान यह बताएगा कि शुरुआती लक्ष्य के रूप में एक तय प्रतिशत तक पहुँच बढ़ाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किस तरह किया जाए.

एडेप्टेशन मार्केटिंग रणनीति क्या है?

मार्केटिंग रणनीतियाँ आपके ब्रैंड का एक बड़ा व्यू देती हैं, लेकिन अगर आप और भी ख़ास विकल्प चाहते हैं, तो एडेप्टेशन मार्केटिंग रणनीति वह है जिसमें आपके ब्रैंड की मार्केटिंग को एक नए लक्ष्य की ओर ले जाने के लिए एडजस्ट किया जाता है. एडेप्टिव मार्केटिंग ऑडियंस की ख़ास ज़रूरतों पर विचार करती है और आपके ऐड और कॉन्टेंट मार्केटिंग को उनके अनुसार तैयार करती है और एडेप्टेशन मार्केटिंग रणनीति उस ख़ास लक्ष्य को हासिल करने में मदद कर सकती है जिसे आप हासिल करना चाहते हैं. उदाहरण के लिए, नई डेमोग्राफ़िक तक पहुँचने के इच्छुक ब्रैंड अपने अपडेट की रूपरेखा प्रदान करने के लिए एडेप्टेशन मार्केटिंग रणनीति का इस्तेमाल करेंगे या एक्वायर किए गए ब्रैंड अपनी मूल कंपनी के भीतर शामिल होने के लिए एडेप्टेशन मार्केटिंग रणनीति का इस्तेमाल कर सकते हैं.

प्रोडक्ट या सेवाओं को बाज़ार में लॉन्च करने से जुड़ी रणनीति क्या है?

प्रोडक्ट या सेवाओं को बाज़ार में लॉन्च करने से जुड़ी रणनीति, मार्केटिंग रणनीति के अंदर आती है. यह एक ऐसा प्लान है जो आपके ब्रैंड के लिए नए प्रोडक्ट या सर्विस के विचार से लेकर उन्हें लॉन्च करने तक के स्टेप का प्लान तैयार करता है. पक्के तौर पर, प्रोडक्ट या सेवाओं को बाज़ार में लॉन्च करने से जुड़ी रणनीति के ज़रूरी एलिमेंट में इस चीज़ की प्लानिंग शामिल है कि यह आपके ब्रैंड की समस्त रणनीति में किस तरह फ़िट बैठता है. इसमें प्रतिस्पर्धी विश्लेषण भी शामिल होना चाहिए और इसमें इंटरनल और एक्सटर्नल दोनों तरह के रिसोर्स शामिल हो सकते हैं, जैसे कि डिस्ट्रीब्यूशन पार्टनर. पक्के तौर पर, अलग-अलग प्रोडक्ट या सर्विस के अलग-अलग प्रोडक्ट या सेवाओं को बाज़ार में लॉन्च करने से जुड़े प्लान होंगे, लेकिन सभी का आपकी मार्केटिंग रणनीति में बताए गए लक्ष्यों के भीतर होना ज़रूरी है.

मार्केट में प्रवेश की रणनीति क्या है?

मार्केट में प्रवेश की रणनीति आपके ब्रैंड या प्रोडक्ट को मौजूदा मार्केट में इंटीग्रेट करने के प्लान के बारे में बताती है. मार्केट में प्रवेश की रणनीति के लिए शुरुआती रिसर्च में आपके ब्रैंड को अवसर वाले क्षेत्रों की पहचान करने की कोशिश करनी चाहिए और फिर उस ग्रोथ को शुरू करने और बनाए रखने दोनों स्टेप का प्लान तैयार करना चाहिए. मार्केट में प्रवेश की रणनीतियों के उदाहरणों में ऐसे ब्रैंड शामिल होंगे जो माँग के आधार पर अपनी क़ीमतों को एडज़स्ट करते हैं या जहाँ उनके कंज़्यूमर को ज़रूरत होती है, वहाँ गैप के आधार पर प्रोडक्ट को अपडेट करते हैं.

प्रमुख मार्केटिंग चैनल

एक असरदार मार्केटिंग रणनीति को ऑडियंस तक पहुँचने के लिए आपके ब्रैंड के प्लान के सभी चैनलों को साथ में लेना चाहिए. इसमें इन-स्टोर चैनल के साथ-साथ डिजिटल कॉन्टेंट मार्केटिंग चैनल जैसे ऐप, ईमेल मार्केटिंग, सोशल मीडिया, वीडियो एडवरटाइज़िंग, डिस्प्ले एडवरटाइज़िंग और डिजिटल एडवरटाइज़िंग शामिल हो सकते हैं. उनमें से प्रत्येक की अपनी रणनीति भी हो सकती है और प्रत्येक को पूरी तरह से ऑप्टिमाइज़ करने के लिए ख़ास रणनीति सौंपी जा सकती है. उदाहरण के लिए, ऑनलाइन समाचार पब्लिकेशन ऐसी कॉन्टेंट मार्केटिंग रणनीति बना सकते हैं जो ईमेल कैम्पेन, ब्लॉग पोस्ट के सोशल मीडिया शेयर और बाहरी कॉन्टेंट सहयोग को भी शामिल करता है. आपको सिर्फ़ फ़िजिकल प्रोडक्ट देने की ज़रूरत नहीं है; मार्केटिंग रणनीतियाँ अलग-अलग प्रकार की कंपनियों और कस्टमर पर अप्लाई हो सकती हैं.

इससे ओमनी-चैनल मार्केटिंग के लिए प्लान तैयार करने में भी मदद मिल सकती है, जो सभी उपलब्ध चैनलों पर मार्केटिंग करता है या मल्टीचैनल मार्केटिंग करता है, जो कि एक से ज़्यादा चैनलों को ध्यान में रख कर बनाई गई मार्केटिंग रणनीति है. इन दो तरह की मार्केटिंग रणनीतियों में आपकी मार्केटिंग रणनीति के सभी चैनल और ऑर्गेनाइज़ेशन के बारे में बताने वाले शामिल हैं.

चार स्टेप में मार्केटिंग रणनीति बनाना

अपने ब्रैंड के लिए किसी मार्केटिंग रणनीति का टेम्प्लेट बनाने के साथ शुरुआत करने के चार स्टेप यहाँ दिए गए हैं.

डिस्कवर आइकन

स्टेप 1: अवसरों को खोजना

मार्केटिंग प्लान और ब्रैंड रणनीति तैयार करते समय, पहले स्टेप का सबसे पहला उद्देश्य है कि आपको कस्टमर बेस की ज़रूरतों और अपने ब्रैंड और प्रोडक्ट के साथ नए कस्टमर तक पहुँचने के अवसरों की खोज करना होना चाहिए. बिना सोचे-समझे कोई नया प्रोडक्ट या कॉन्टेंट बनाने से पहले, बाज़ार में मौजूद अलग-अलग ऑफ़र पर रिसर्च करना भी ज़रूरी है, ताकि यह पक्का किया जा सके कि आपका ब्रैंड किसी ऐसी चीज़ पर अपना क़ीमती समय या रिसोर्स बर्बाद नहीं कर रहा हो, जिसे कस्टमर नहीं चाहते हैं.

उद्देश्य आइकन

स्टेप 2: बिज़नेस के लक्ष्यों को रेखांकित करना

इसके बाद, यह पता लगाएँ कि आप किस समस्या को हल करना चाहते हैं और ऐसा करने के लिए आपके द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली रणनीति तय करें. अपनी रणनीति तय करने के साथ, आप जिन चैनलों का इस्तेमाल करेंगे उन पर और प्रत्येक के लिए ऑप्टिमल ऑडियंस पर विचार करें. आप इस स्टेप के लिए दूसरों को भी शामिल कर सकते हैं, ताकि पहुँच का विस्तार किया जा सके और अन्य ब्रैंड के साथ या नई जगहों पर आपके कॉन्टेंट को बाहरी रूप से एडवरटाइज़ या क्रॉस-प्रमोट किया जा सके.

ऑडियंस आइकन

स्टेप 3: प्रोडक्ट लॉन्च करना

एक बार जब आपको ऑडियंस की चाहत और ज़रूरतों का पता लग जाता है, तो आप एक नए प्रोडक्ट लॉन्च के साथ उन तक पहुँच सकते हैं. यह वह जगह है जहाँ आपका प्रोडक्ट या सेवाओं को बाज़ार में लॉन्च करने से जुड़ा प्लान काम आता है क्योंकि यह आपकी कॉन्टेंट मार्केटिंग रणनीति के इस स्टेप के अंदर के उठाए जाने वाले कदमों को रेखांकित करेगा. यह पक्का करना कि आपके प्लान और रणनीतियों पर पहले से ही अच्छी तरह सोचा जा चुका है, आपके प्रोडक्ट लॉन्च के सफल होने की संभावना को बढ़ाने में मदद कर सकता है.

नतीजों का विश्लेषण करना

स्टेप 4: नतीजों का विश्लेषण करना

पहुँच और बिक्री जैसे ग्रोथ मेट्रिक पर लगातार नजर रखते हुए अपनी मार्केटिंग रणनीति को मॉनिटर करें. अपनी रणनीति की सफलता को मापने के लिए, उन मेट्रिक और मुख्य परफ़ॉर्मेंस इंडिकेटर (KPI) पर विचार करें, जो आपके ब्रैंड के लक्ष्यों के लिए सबसे ज़्यादा संबंधित होंगे. इसके अलावा, सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (SEO) से उन कस्टमर तक पहुँचने में बड़ी मदद मिल सकती है, जो ऐक्टिव तरीक़े से नए प्रोडक्ट और डिजिटल कॉन्टेंट की तलाश कर रहे हैं.

इसके अतिरिक्त, आपके प्रोडक्ट या एडवरटाइज़ पर आपको मिलने वाले फ़ीडबैक को देखें और अपनी टीम और बाहरी कस्टमर दोनों की बातों को ध्यान से सुनें. इस बात पर ध्यान दें कि क्या काम किया (या क्या काम नहीं किया) और उसके अनुसार अपनी लॉन्ग-टर्म रणनीति में अपने लक्ष्यों और अगले स्टेप को अपडेट करें.

सफल मार्केटिंग रणनीतियों के उदाहरण

मार्केटिंग रणनीतियां अलग-अलग प्रकार के प्रोडक्ट और कॉन्टेंट को कवर कर सकती हैं, लेकिन यहाँ कुछ उदाहरण दिए गए हैं कि खास इंडस्ट्री में ब्रैंड सफलता प्राप्त करने के लिए मार्केटिंग रणनीति का इस्तेमाल किस तरह किया जा सकता है.

खाने-पीने की चीज़ों का आइकन

ग्रोसरी मार्केटिंग ऑनलाइन की जाती है

सफलता की कहानी का एक उदाहरण ऑनलाइन ग्रोसरी ख़रीदारी है. ग्रोसरी के लिए ऑनलाइन ख़रीदारी में कंज़्यूमर के व्यवहार को देखते हुए, Whole Foods Market ने आखिरकार 2020 में अपना पहला स्थायी सिर्फ़-ऑनलाइन स्टोर खोला. अपनी इंडस्ट्री के ट्रेंड को देखकर, वे एक असरदार मार्केटिंग प्लान और रणनीति बना और उसे लागू कर पाए.

सीज़नल खिलौने और गेम

सीज़नल खिलौने और गेम की मार्केटिंग

जब गेम और खिलौनों की मार्केटिंग की बात आती है, तो आपके ब्रैंड की रणनीति कैलेंडर से बहुत क़रीब से जुड़ी होनी चाहिए. कस्टमर की दिलचस्पी में बदलाव को शामिल करने के लिए मार्केटिंग प्लान का इस्तेमाल करने से सफलता हासिल करने में मदद मिल सकती है. उदाहरण के लिए, छुट्टियों के समय ख़रीदारी करने वाले 32% ख़रीदार ने ब्लैक फ़्राइडे/साइबर मंडे के दौरान कम से कम एक खिलौना ख़रीदा, जिससे यह ब्रैंड के लिए अपने एडवरटाइज़िंग कोशिशों पर फ़ोकस करने का एक अच्छा समय बन गया.1

1 National Retail Federation, रिटेल हॉलिडे एंड सीज़नल ट्रेंड, 2020