वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट (बीटा) के 6 तरीकों की मदद से एडवरटाइज़र अपना ब्रैंड आगे बढ़ा सकते हैं

1 सितंबर 2022 | एंड्रयू कोल, प्रोडक्ट मार्केटिंग मैनेजर की ओर से

वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट का उदाहरण

मुझे अपने बचपन का वह दौर याद है जब Pizza Hut ने अपना मशहूर स्टफ़्ड-क्रस्ट पिज़्ज़ा पेश किया था. मैंने अपने मन में सोचा कि A) यह तो काफ़ी शानदार है और B) उन्हें इस पूरे पिज़्ज़ा को और भी बेहतर बनाने का कोई और तरीका खोजने में कई साल लगेंगे. ऐड टेक में हाल ही की तरक्की की बदौलत, आज मैं फ़िल्मों और टीवी में प्रोडक्ट प्लेसमेंट को लेकर में वैसा ही महसूस कर रहा हूं.

जरा ठहरिए. टाइम आउट... क्या ब्रैंडेड Pizza Hut का ज़िक्र किए जाने की वजह से मेरे किस्से में आपकी दिलचस्पी बढ़ रही थी? अगर हां, तो ऐसा इसलिए है क्योंकि स्टडी से पता चला है कि 77% कंज़्यूमर ब्रैंड के नाम की वजह से आइटम खरीदते हैं.1 इसके अलावा कॉन्टेंट में सामान्य तरीके से प्रोडक्ट प्लेसमेंट किए जाने पर वह ब्रैंड के लिए ऐसा आकर्षक तरीका साबित हो सकता है जिसकी मदद से ब्रैंड भरोसेमंद और विनम्र तरीके से कस्टमर के साथ जुड़ सकते हैं.

एडवरटाइज़र अपनी ऑडियंस बढ़ाना चाहते हैं और नए तरीकों से अपने ब्रैंड को प्रीमियम कॉन्टेंट के मुताबिक रखना चाहते हैं, इसलिए Amazon Ads की ओर से अब बीटा में प्रोडक्ट इंटीग्रेशन को टेक्नोलॉजी के दम पर काम करने वाले वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट के तौर पर ऑफ़र किया जा रहा है. यह ब्रैंड के लिए ऐसा टर्न-की, बढ़ाया जा सकने वाला तरीका है जिसकी मदद से वे Prime Video और Amazon Freevee पर दिखाए जाने वाले स्ट्रीमिंग टाइटल के ज़रिए कॉन्टेंट में एक्सपोज़र को सुरक्षित कर सकते हैं.

यकीनन प्रोडक्ट प्लेसमेंट को कम से कम एक सदी से लोकप्रिय मनोरंजन में इस्तेमाल किया जा रहा है. जूल्स वर्ने ने काफ़ी अरसा पहले 1872 में अराउंड द वर्ल्ड इन 80 डेज़ में असली परिवहन कंपनियों के नाम इस्तेमाल किए थे. बेस्ट पिक्चर के लिए एकेडमी अवार्ड जीतने वाली पहली फ़िल्म विंग्स में Hershey की चॉकलेट के साथ कई सीन दिखाए गए थे. साथ ही, अगर Reese’s Pieces को कुछ हद तक रणनीतिक तरीके से नहीं रखा गया होता, तो कोई सोच भी नहीं सकता है कि इलियट ने E.T. के साथ किस तरह से संपर्क कायम किया होगा.

जब ब्रैंड शो और कहानियों के दौरान ऑर्गेनिक तरीके से अपनी मनचाही ऑडियंस तक पहुंचते हैं, तो उन्हें देख रहे व्यूअर के ज़रिए उन्हें भरपूर फ़ायदा मिल सकता है. यह ऐसा ट्रेंड भी साबित हुआ है जिसे लेकर मौजूदा दौर की एडवरटाइज़िंग इंडस्ट्री में जोश का माहौल बना हुआ है.

2021 में, अमेरिका के 34% एडवरटाइज़र ने ब्रैंडेड कॉन्टेंट में अपना निवेश बढ़ाया था (इसमें ब्रैंड की ओर से लगाए गए पैसे से बनने वाली सीरीज़, इन-प्रोग्राम इंटीग्रेशन, कस्टम को-ब्रैंडेड सोशल मीडिया कॉन्टेंट वगैरह शामिल है) निवेश बढ़ने की रफ़्तार साल-दर-साल औसतन 23% की रही है.2 इसके अलावा, तीन में से दो वीडियो एडवरटाइज़र ऐसे हैं जिन्होंने मार्केटिंग के अपने तरीकों में इन-प्रोग्राम ब्रैंडिंग इस्तेमाल करने के बारे में बताया है, इनमें से 47% ने अपने ब्रैंड को ऐड दिखाने वाले कॉन्टेंट में और 35% ने बगैर ऐड वाले कॉन्टेंट में रखा है.3

वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट ऐसी उभरती हुई टेक्नोलॉजी है जो फ़िल्म या टीवी सीरीज़ फ़िल्माए जाने के बाद उनमें डिजिटल तरीके से दिखाए जाने वाले प्रोडक्ट, बिलबोर्ड या लोगो को शामिल कर देती है. हम अपने कॉन्टेंट क्रिएटर को हर तरह का सहयोग देते हैं ताकि वे हिस्सेदारी करने वाले हर टाइटल के लिए प्लेसमेंट की जगह और उपलब्ध प्रोडक्ट कैटेगरी तय कर सकें. हर फ़िल्म या सीरीज़ के लिए सभी फ़ैसले कलात्मक नज़रिए को ध्यान में रखते हुए लिए जाते हैं, इन सभी का मकसद यह होता है कि प्लेसमेंट की वजह से कहानी में कोई दखल नहीं होगा या इससे व्यूअर के मज़े पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

स्ट्रीमिंग कॉन्टेंट में असर पैदा करने के नज़रिए से जो ब्रैंड इस नए तरीके के बारे में ज़्यादा जानने की इच्छा रखते हैं, उनके लिए यहां छह ऐसे तरीके बताए गए हैं जो वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट को सबसे अलग खड़ा कर सकता है.

1. ज़्यादा आसान, फ़्लेक्सिबल प्रोडक्ट प्लेसमेंट सोल्यूशन

ऐसे 37% एडवरटाइज़र हैं जिन्होंने पिछले साल 2021 के मुकाबले अपने बजट में खास तौर से इन-प्रोग्राम इंटीग्रेशन पर ज़्यादा खर्चा करने की बात बताई थी और 40% ऐसे हैं जिन्होंने 2022 में उस निवेश को बढ़ाने का प्लान बनाया था.3 ब्रैंडेड कॉन्टेंट पर फ़ोकस करने की इस रफ़्तार के जारी रहने की संभावना है क्योंकि वर्चुअल इंटीग्रेशन के चलते प्रोडक्ट प्लेसमेंट ज़्यादा आसान और ज़्यादा फ़्लेक्सिबल हो जाता है.

37% खर्च

एडवरटाइज़र, इन-प्रोग्राम इंटीग्रेशन पर ज़्यादा खर्चा कर रहे हैं, अगर आप 2021 के खर्चे की तुलना 2020 से करें

40% इन-प्रोग्राम इंटीग्रेशन

एडवरटाइज़र ऐसे हैं जो 2022 में अपने इन-प्रोग्राम इंटीग्रेशन बजट को बढ़ाने का प्लान बना रहे हैं

पारंपरिक प्रोडक्ट प्लेसमेंट में किसी फ़िल्म या टीवी सीरीज़ के प्रीमियर से कई महीन या साल पहले फ़ैसले लेने पड़ते हैं, इसमें खास बात यह है कि आगे चलकर उनमें कोई बदलाव नहीं किया जा सकता है. वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट, प्रोडक्शन का काम खत्म हो जाने के बाद कॉन्टेंट में ब्रैंड को शामिल करते हुए प्रोसेस को आसान बनाता है.

वे दिन गए जब प्रोडक्ट पेश करने, उन्हें सेट करने के लिए लॉजिस्टिक्स मैनेज करने और इंटीग्रेशन के सभी पहलुओं पर नज़र बनाए रखना पड़ती थी. एडवरटाइज़र इसलिए फ़ायदे में रहते हैं क्योंकि उन्हें लाइव होने से पहले ही सटीक तरीके से यह देखने और स्वीकृति देने का मौका मिलता है कि उनके ब्रैंड को कैसे पेश किया जाएगा. कॉन्टेंट क्रिएटर इसलिए फ़ायदे में रहते हैं क्योंकि उन्हें शानदार कहानियों को सबसे अच्छे तरीके से बताने पर फ़ोकस करने वाले प्रोडक्शन का खर्चा उठाना पड़ता है.

Amazon Ads के वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट की बदौलत एडवरटाइज़र अपने ब्रैंड को मौजूदा प्रशंसकों के पसंदीदा में और Prime Video के साथ ही Freevee पर आगामी बेसब्री से इंतज़ार की जा रही रिलीज़ में शामिल कर सकते हैं, वे बस एक ही कैम्पेन के ज़रिए यह काम कर सकते हैं.

2. पारंपरिक वीडियो ऐड को रणनीतिक तरीके से असरदार बनाएं

वीडियो ऐड के सभी फ़ॉर्मेट में किए जा रहे निवेश को देखते हुए इस साल अमेरिका में $76 बिलियन की रकम को 2026 में बढ़ कर $125 बिलियन तक पहुंच जाने का अनुमान लगाया गया है4—सर्वे बताते हैं कि मार्केटर ने प्रोडक्ट प्लेसमेंट जैसे उन अवसरों का फ़ायदा उठाने के लिए दिलचस्पी ज़ाहिर की हैं जो उनके स्टैंडर्ड कैम्पेन को और असरदार बना सकते हैं.

$125 बिलियन
2026 तक अमेरिका में वीडियो ऐड पर खर्च का अनुमान

जब यह पूछा गया कि अगले 12 महीनों में वे कनेक्टेड टीवी कॉन्टेंट मार्केटिंग के किन अवसरों को अपनी ज़रूरतों के मुताबिक सबसे ज़्यादा संबंधित मानते हैं, तो 37% एडवरटाइज़र ने प्रीमियम प्रोग्राम के टाइटल-लेवल की स्पॉन्सरशिप को सबसे ऊपर रखते हुए वीडियो कॉन्टेंट में प्रोडक्ट प्लेसमेंट का ज़िक्र किया.2

चौतरफ़ा वीडियो ऐड कैम्पेन के लिए वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट रणनीतिक नज़रिए से और भी सुविधाएं उपलब्ध कराता है ताकि एडवरटाइज़र चल रहे कैम्पेन के दौरान उसे ऑप्टिमाइज़ कर सके. मार्केटर इंटीग्रेशन कर सकते हैं, अपनी पूरी रणनीति के नज़रिए से कैम्पेन की कामयाबी का जायजा ले सकते हैं और उसके हिसाब से अपने कैम्पेन के साथ ही आगे आने वाले प्लेसमेंट को कैलिब्रेट कर सकते हैं.

Amazon Ads के ज़रिए ऐसा 360° वीडियो कैम्पेन तैयार करें जिसमें Streaming TV ऐड, वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट और Freevee प्रीमियम शो स्पॉन्सरशिप शामिल हो.

3. प्रीमियम स्ट्रीमिंग कॉन्टेंट में दिखाई देने का अवसर

एडवरटाइज़र ऐसे प्रीमियम कॉन्टेंट का इस्तेमाल करना चाहते हैं जो उनके ब्रैंड को संस्कृति से जुड़े अहम लम्हों के साथ तालमेल रखने का मौका देता है. ब्रैंडेड कॉन्टेंट में शामिल किए जाने के सबसे अहम फ़ायदों के बारे में पूछे जाने पर 61% मार्केटर ने अपनी इच्छित ऑडियंस के साथ ज़्यादा मज़बूत संबंध बना सकने की इसकी क्षमता का ज़िक्र किया और 45% ने कहा कि यह ब्रैंड को इंसानों से जोड़ता है.2

ब्रैंडेड कॉन्टेंट से टॉप एडवरटाइज़र को मिलने वाले फ़ायदे

61% के मुताबिक ज़्यादा मज़बूत संबंध कायम करता है

इसके ज़रिए अपनी मनचाही ऑडियंस के साथ ज़्यादा मज़बूत संबंध कायम किया जा सकता है

45% के मुताबिक ब्रैंड को इंसानों से जोड़ता है

इसके ज़रिए ब्रैंड को इंसानों से जोड़ा जा सकता है

जब मनचाही ऑडियंस अपने पसंदीदा कैरेक्टर और कहानियों के ताने-बाने में पूरी तरह से तल्लीन हो, तब प्रोग्राम की मदद से उन तक पहुंचने के ज़रिए को कामयाब प्रोडक्ट प्लेसमेंट कहा जाता है. वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट से एक साथ कई स्ट्रीमिंग टाइटल और प्लेसमेंट के अवसरों में मज़बूत संबंध बनाने और इंसानों से जोड़ने की यह सुविधा मिलती है, साथ ही यह ब्रैंड को उनकी ज़रूरत के हिसाब से कारगर साबित हो सकने वाले स्ट्रीमिंग पसंदीदा में नज़र आने का मौका देता है.

इसके अलावा, Amazon Ads में हमारा वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट सोल्यूशन (बीटा) सभी सुविधाओं को एक ही जगह पर उपलब्ध कराता है. हम ऐसी मालिकाना तकनीक तैयार और मैनेज करते हैं जिसकी मदद से हर तरह का प्लेसमेंट किया जा सके और हम अवॉर्ड जीतने वाले Amazon Studios में अपने कॉन्टेंट क्रिएटर के ज़रिए कॉन्टेंट पाइपलाइन उपलब्ध कराते हैं.

आपको वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट के ज़रिए Prime Video और Freevee के 20 से भी ज़्यादा सबसे मशहूर स्ट्रीमिंग टाइटल में दिखाई देने का अवसर मिलता है, जिसमें मेकिंग द कट, रीचर, टॉम क्लैंसीज़ जैक रयान, Bosch फ़्रैंचाइज़ी शामिल हैं और इसके फ़ायदे ये हैं: रिडेम्पशन—आने वाले महीनों में और भी कई चीज़ें जोड़ी जा रही हैं.

4. खरीदारी को अहमियत देने वाली समृद्ध, शिक्षित ऑडियंस

प्रोडक्ट प्लेसमेंट के मामले में, ज़्यादातर ऑडियंस इस बात का यकीन दिलाती है कि वह खरीदारी करने में लगी हुई है. 63% व्यूअर के मुताबिक उन्हें किसी टीवी शो में देखने के बाद उस प्रोडक्ट को खरीदने की इच्छा होती है और ऐसा कहने वालों में कम उम्र (18+) के वयस्क व्यूअर सबसे ज़्यादा हैं: औसत व्यूअर के मुकाबले Gen Z (18-24 साल) के 20% ज़्यादा और मिलेनियल वयस्क के 8% ज़्यादा व्यूअर ऐसे हो सकते हैं जो यही बात कहते हैं.5

हमारी यूनीक ऑडियंस की बनावट को बेहतर ढंग से समझने में एडवरटाइज़र की मदद करने के लिए, Amazon Ads ने इस साल Nielsen के साथ मिलकर काम किया था ताकि Bosch, रीचर, गोलियथ और द टुमॉरो वॉर जैसे कई टाइटल में शुरुआती वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट कैम्पेन के लिए कुछ खास डेमोग्राफ़िक जानकारी को आज़माया और समझा जा सके. Nielsen ने अपने SVOD कॉन्टेंट रेटिंग सोल्यूशन का इस्तेमाल किया, जो टीवी स्क्रीन पर देखे गए सब्सक्रिप्शन-आधारित कॉन्टेंट को मॉनिटर करता है और Nielsen People Meter में हिस्सा लेने वाले लोगों की ओर से सेल्फ़-रिपोर्ट की गई जानकारी को शामिल करता है.

45% से ज़्यादा

VPP टेस्ट ऑडियंस में शामिल किए गए परिवारों के आम कंज़्यूमर के मुकाबले सालाना $200k से ज़्यादा कमाई वाला होने की संभावना है

25% से ज़्यादा

VPP टेस्ट ऑडियंस में शामिल किए गए परिवारों में आम कंज़्यूमर के मुकाबले 4 साल से ज़्यादा समय तक कॉलेज में भाग लेने की संभावना है

54% से ज़्यादा

VPP टेस्ट ऑडियंस में शामिल किए गए परिवारों में आम कंज़्यूमर के मुकाबले 2 या ज़्यादा सदस्य होने की संभावना है

नतीजों के मुताबिक, हमने पाया कि कैम्पेन ने ज़्यादा आय रेंज वाली ऑडियंस तक पहुंचने में कामयाबी हासिल की, सामान्य टेलीविजन देखने वाले लोगों के मुकाबले सालाना $200k से ज़्यादा कमाई वाली इस ऑडियंस के 45% ज़्यादा होने की संभावना है, कॉलेज में 4 से ज़्यादा साल तक भाग लेने वाली शिक्षित ऑडियंस के 25% ज़्यादा होने संभावना है और दो या उससे ज़्यादा सदस्यों वाली ऑडियंस के 54% ज़्यादा होने की संभावना है.6

Amazon Ads के ज़रिए वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट को एक्टिवेट करने पर आप खरीदारी को बढ़ावा देते हुए अपने ब्रैंड को समृद्ध, शिक्षित ऑडियंस के सामने पेश कर सकते हैं.

5. व्यूअर मज़ेदार एक्सपीरिएंस पर गौर करते हैं

आज की कई हिस्सों में बटी इकॉनमी में, एडवरटाइज़र ऐसे सोल्यूशन को अहमियत देते हैं जो कंज़्यूमर के साथ जुड़ने के लिए उनके मैसेज को सबसे आगे लाने में मदद कर सकें. 42% एडवरटाइज़र के मुताबिक ब्रैंड को शामिल करने वाले कॉन्टेंट में हिस्सा लेने का सबसे बड़ा फ़ायदा यह है कि इससे उन्हें भीड़ से अलग खड़े होने या सबसे ऊपर आने में मदद मिलती है.2

वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट से ब्रैंड को ऐसे तौर-तरीके से पेश करने में मदद मिलती है जहां ऑडियंस उनकी ओर आकर्षित होती है और उन पर गौर करती है. Amazon Ads के साथ मिल कर Kantar की ओर से किए गए थर्ड-पार्टी सर्वे के मुताबिक, यह इस काम को ऐसे करता है कि व्यूअर के लिए उनके पसंदीदा प्रोग्राम का मज़ा बरकरार रहे.

99%

टेस्ट ऑडियंस के ऐसे व्यूअर जिन्होंने वर्चुअल प्लेसमेंट वाले शो को लेकर न्यूट्रल या पॉज़िटिव एक्सपीरिएंस के बारे में सेल्फ़-रिपोर्ट की है

21%

टेस्ट ऑडियंस के ऐसे व्यूअर जिन्होंने वर्चुअल प्लेसमेंट की वजह से शो के और भी मज़ेदार बन जाने के बारे में सेल्फ़-रिपोर्ट की है

Amazon Ads ने कई वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट बीटा कैम्पेन के लिए ऑडियंस पर असर को मापने के लिए Kantar के साथ मिल कर स्टडी की सीरीज़ पर काम किया था. स्टडी में हिस्सा लेने वाले 99% व्यूअर ने ऐसे शो के दौरान देखने को लेकर न्यूट्रल या पॉज़िटिव एक्सपीरिएंस के बारे में सेल्फ़-रिपोर्ट की थी जिसमें प्लेसमेंट शामिल थे, जवाब देने वाले 21% लोगों ने कहा कि प्लेसमेंट ने उनके शो देखने के मज़े को बढ़ा दिया था.7

वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट के ज़रिए, एडवरटाइज़र इंटीग्रेशन की मदद से दिलचस्पी रखने वाली ऐसी ऑडियंस तक पहुंचने के लिए व्यवधान में कमी ला सकते हैं जो पूरी तरह से शो में तल्लीन होकर देखने का मज़ा ले रही है.

6. ब्रैंड की पहचान और खरीदने का मकसद बढ़ाने का असरदार तरीका

प्रमुख ब्रैंड मेट्रिक में बढ़त हासिल करने में एडवरटाइज़र की मदद करने के मामले में प्रोडक्ट प्लेसमेंट काफ़ी असरदार साबित हुए हैं. सबसे ज़्यादा बार मापे जाने वाले इंडिकेटर में से कुछ में प्रोडक्ट रीकॉल (प्लेसमेंट देखने के बाद व्यूअर किसी ब्रैंड को कितनी अच्छी तरह से याद रखते हैं), ब्रैंड फ़ेवरेबिलिटी (ब्रैंड के बारे में कंज़्यूमर कुल मिलाकर क्या सोचता है) और खरीदने का मकसद (वे फ़ीचर्ड ब्रैंड खरीदने की कितनी संभावना रखते हैं) शामिल हैं.

वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट के हमारे शुरुआती टेस्ट में, नीचे दिखाए गए कैम्पेन में वर्चुअल प्लेसमेंट के देखने वाले व्यूअर ने प्रोडक्ट के ज़्यादा अच्छे रीकॉल और शामिल प्रोडक्ट के बारे में बेहतर राय जताई.

केस स्टडी: मेकिंग द कट में Bubly

VPP से पहले
VPP के बाद

Bubly ने Prime Video पर मेकिंग द कट के पूरे 3 एपिसोड में अपने प्रोडक्ट को पेश करने के लिए वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट का इस्तेमाल किया था. Kantar की ओर से की गई कैम्पेन के बाद ब्रैंड को आगे बढ़ाने की स्टडी के मुताबिक, स्पार्कलिंग वॉटर ब्रैंड के लिए एडेड रीकॉल, ब्रैंड फ़ेवरेबिलिटी और खरीदने के मकसद को बढ़ाने में प्लेसमेंट असरदार साबित हुए थे.

  • एडेड रीकॉल में 18.1% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 6.2 गुना ज़्यादा 8
  • ब्रैंड फ़ेवरेबिलिटी में 6.8% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 3.2 गुना ज़्यादा 8
  • खरीदने के मकसद में 16.5% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 9.2 गुना ज़्यादा 8

केस स्टडी: Bosch और मेकिंग द कट में M&Ms

VPP से पहले
VPP के बाद

M&Ms ने Prime Video पर Bosch और मेकिंग द कट के 5 एपिसोड में ऐसा वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट कैम्पेन शामिल किया था जिसमें उनके मशहूर फज़ ब्राउनी फ़्लेवर की पैकेजिंग को दिखाया गया था. Kantar की ओर से ब्रैंड को आगे बढ़ाने की स्टडी में देखा गया कि फ़ेवरेबिलिटी और खरीदने के मकसद दोनों को बढ़ाने के मामले में प्लेसमेंट असरदार साबित हुए थे.

  • ब्रैंड फ़ेवरेबिलिटी में 6.9% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 3.3 गुना ज़्यादा 9
  • खरीदने के मकसद में 14.7% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 8.2 गुना ज़्यादा 9

केस स्टडी: Coffee Mate को मिला फ़ायदा: रिडेम्पशन

VPP से पहले
VPP के बाद

Coffee Mate ने ऐसे कैम्पेन के ज़रिए वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट में हिस्सा लिया था जिसके 3 एपिसोड में ब्रैंडेड कॉफ़ी क्रीमर शामिल था फ़ायदा: Freevee पर रिडेम्पशन. Kantar की ओर से की गई कैम्पेन के बाद ब्रैंड को आगे बढ़ाने की स्टडी के मुताबिक, एक्टिवेशन की वजह से व्यूअर के प्रोडक्ट को याद रखने और प्रोडक्ट को लेकर उसकी कुल मिलाकर सोच को बेहतर बनाने के अलावा खरीदने की संभावना को भी बढ़ाया.

  • एडेड रीकॉल में 17.1% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 5.9 गुना ज़्यादा10
  • ब्रैंड फ़ेवरेबिलिटी में 13% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 6.2 गुना ज़्यादा10
  • खरीदने के मकसद में 11.9% से ज़्यादा की बढ़त देखी गई, Kantar की ओर से मापे गए CPG डिजिटल कैम्पेन पर 6.6 गुना ज़्यादा10

Amazon Ads के वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट के अवसरों के साथ कैम्पेन के असर को मापने के लिए लीडिंग थर्ड-पार्टी रिसर्च प्रोवाइडर की ओर से की गई कैम्पेन के बाद ब्रैंड को आगे बढ़ाने से जुड़ी स्टडी की जानकारी भी शामिल होती है.

नतीजा

कंज़्यूमर का ध्यान खींचने के हमेशा बढ़ते हुए अवसरों वाले परिदृश्य में, वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट की ओर से ब्रैंड को स्ट्रीमिंग टीवी कॉन्टेंट में व्यूअर तक पहुंचने का ऐसा नया तरीका ऑफ़र किया जाता है जिसे ऑडियंस पसंद करती है. इसके ज़रिए एडवरटाइज़र को अपना ब्रैंड आगे बढ़ाने का आकर्षक मौका मिलता है.

साथ ही, आने वाले महीनों में वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट में ज़्यादा शो टाइटल, अतिरिक्त प्लेसमेंट और पूरी जानकारी देने वाले इनसाइट की फ़ंक्शनलिटी भी शामिल की जा रही है. Amazon Ads अपने एडवरटाइज़िंग कस्टमर और कॉन्टेंट क्रिएटर के साथ मिलकर स्ट्रीमिंग टीवी एडवरटाइज़िंग में इस नई रोमांचक शुरुआत को आगे बढ़ाते हुए उत्साहित है.

अगर आप यह जानना चाहते हैं कि आपका ब्रैंड किस तरह से नई ऑडियंस तक पहुंच सकता है और वर्चुअल प्रोडक्ट प्लेसमेंट के ज़रिए असर डाल सकता है, तो अपने Amazon Ads अकाउंट एक्ज़ीक्यूटिव से संपर्क करें आज ही.

1 “2021 में ब्रैंडिंग का पावर,” Forbes, US, 2021
2 एडवरटाइज़र की सोच, ब्रैंडेड कॉन्टेंट और इन्फ़्लुएंसर मार्केटिंग रिपोर्ट, US, 2021
3 एडवरटाइज़र की सोच, वीडियो एडवरटाइज़िंग कंवर्जेंस रिपोर्ट, US, 2021
4 ई-मार्केटर, US, मार्च 2022
5 Magna और Amazon Ads, कॉन्टेंट और कॉमर्स की बदलती हुई दुनिया, US, 2022
6 Nielsen की ब्रैंड की पहुंच से जुड़ी स्टडी, US, 2022. यह स्टडी Nielsen SVOD कॉन्टेंट रेटिंग का इस्तेमाल करते हुए की गई थी, यह टीवी के ज़रिए स्ट्रीम किए गए सब्सक्रिप्शन-आधारित कॉन्टेंट का सिंडिकेट किया गया, स्वतंत्र मेजरमेंट है और Nielsen People Meter सदस्यों का ऐसा ऑप्ट-इन पैनल है, जो टीवी देखने वाले व्यूअर की डेमोग्राफ़िक बनावट को समझने के मकसद से अपनी मौजूदगी रजिस्टर कराते हैं.
7 Kantar की ब्रैंड को आगे बढ़ाने की स्टडी, US, 2022
8 Kantar की ब्रैंड को आगे बढ़ाने की स्टडी, US, 2021-2022; कंट्रोल = 200, एक्सपोज़्ड = 201; Kantar 2021 CPG सभी डिजिटल बेंचमार्क*
9 Kantar की ब्रैंड को आगे बढ़ाने की स्टडी, US, 2021; कंट्रोल = 139, एक्सपोज़्ड = 181; Kantar 2021 CPG सभी डिजिटल बेंचमार्क*
10 Kantar की ब्रैंड को आगे बढ़ाने की स्टडी, US, 2022; कंट्रोल = 201, एक्सपोज़्ड = 200; Kantar 2021 CPG सभी डिजिटल बेंचमार्क*

*ब्रैंड को आगे बढ़ाने के सभी नतीजे 90% अहम बढ़त दिखाते हैं.