ब्रैंड किस तरह से ट्रांज़ैक्शन से आगे बढ़ कर कस्टमर के साथ रिलेशन बना सकते हैं, इस बारे में Publicis के विचार

14 नवंबर, 2022 | ज़रीन इमाम, सीनियर एडिटोरियल और कॉन्टेंट मैनेजर की ओर से

यह ब्लॉग पोस्ट Amazon Ads की सालाना unBoxed कॉन्फ़्रेंस के हमारे कवरेज का हिस्सा है. 2022 की कॉन्फ़्रेंस में, एडवरटाइज़िंग लीडर हमारे सबसे नए प्रोडक्ट को देखने और अपने कस्टमर के लिए ब्रैंड की ओर से नई चीज़ें बनाने के तरीकों पर बातचीत करने के लिए इकट्ठा हुए.

क्या आप इवेंट में हिस्सा नहीं ले पाए?
unBoxed 2022 से और भी एक्सप्लोर करें

बड़े और छोटे दोनों ही तरह के कई ब्रैंड के लिए कस्टमर के साथ मजबूत रिलेशन बनाना टॉप ऑफ़ माइंड होता है. इसके अलावा, ऑडियंस के बढ़ते हुए फ़्रेगमेंटेशन के साथ, ब्रैंड न सिर्फ़ ऑडियंस तक पहुंचने में मदद पाने के लिए, बल्कि उन कस्टमर रिलेशनशिप को बढ़ाने और उन्हें कायम रखने के लिए अलग-अलग मार्केटिंग रणनीतियां इस्तेमाल कर रहे हैं.

हमने 25 से 27 अक्टूबर तक न्यूयॉर्क शहर के जैकब जेविट्स सेंटर में आयोजित Amazon Ads की सालाना कॉन्फ़्रेंस, unBoxed 2022 के दौरान Publicis Commerce की चीफ़ ऑपरेटिंग ऑफ़िसर एमी लांज़ी के साथ बातचीत की. बातचीत के दौरान, उन्होंने बताया कि ब्रैंड किस तरह से ऐड इंडस्ट्री में हो रहे बदलावों के बीच और आर्थिक अनिश्चितता के दौर में अपने कस्टमर के साथ जुड़ने पर फ़ोकस करते हुए आगे बढ़ते रह सकते हैं और कामयाब हो सकते हैं.

ब्रैंड ने किस तरह से कंज़्यूमर के साथ ऑनलाइन इंटरैक्ट करने के तरीकों को बदल दिया है?

इंडस्ट्री के रूप में, हम ब्रैंड को ट्रांज़ैक्शन से अपने कस्टमर के साथ रिलेशनशिप की ओर बढ़ते हुए देख रहे हैं. आज मार्केटर चाहते हैं कि कस्टमर क्लिक करके खरीदें और उनके ब्रैंड की सिफ़ारिश करने वाले के तौर पर वापस आएं. वे अपने कस्टमर को जानना चाहते हैं, उन्हें अपने साथ बनाए रखना सीखना चाहते हैं, उनके बारे में ज़्यादा जानना चाहते हैं और उन्हें खुश रखना चाहते हैं. यहीं पर टेक स्टैक और फ़र्स्ट-पार्टी इनसाइट रणनीति वास्तव में अहम साबित होती हैं. इस तरह की ब्रैंड विश्वसनीयता और कनेक्शन बनाने पर ही ब्रैंड आगे चल कर खुद को बढ़ा पाएंगे.

आज के दौर में ब्रैंड के आगे बढ़ने में सबसे अहम चुनौती क्या है?

इन दिनों कंज़्यूमर तक पहुंचना काफ़ी मुश्किल है. वे अपना काफ़ी समय सोशल मीडिया पर और अलग-अलग तरीकों से बिता रहे हैं. आज ब्रैंड को यह पता लगाने की ज़रूरत है कि ऑडियंस जिन जगहों को अहम मानती है वहां पर उनके साथ किस तरह एंगेज हों.

ब्रैंड ऑडियंस तक बेहतर तरीके से किस तरह पहुंच सकते हैं?

स्मार्ट मीडिया रणनीति की मदद से कनेक्शन बनाए जा सकते हैं. सही डिजिटल चैनल और इन्फ़्लुएंसर के साथ तालमेल रखने से यह पक्का करने में भी मदद मिल सकती है कि आपका मैसेज संबंधित ग्रुप के बीच चर्चा में बना रहे. इसके अलावा, लोगों की ओर से दिए जाने वाले सबूत भी असरदार साबित होते हैं—खरीदारी करने की भावना जगाने और उसे बढ़ाने में सोशल रिव्यू और सुझावों की अहमियत होती है. अगर उस कॉन्टेंट को संबंधित ग्रुप या क्रिएटर के साथ शेयर किया जाता है, तो इस बात की बेहतर संभावना है कि आपके मैसेज को सही ऑडियंस देख सके और उनके बीच इसकी चर्चा हो पाए.

इस समय डिजिटल मार्केटिंग स्पेस में उतरने वाले ब्रैंड के लिए आपकी क्या सलाह है?

नए और उभरते हुए Web3 स्पेस ब्रैंड के लिए अहम जगहें हैं क्योंकि यहीं से डिजिटल कनेक्शन बनाए जा रहे हैं. ब्रैंड को इस बात पर गौर करना होगा कि वे किस तरह से खुद को प्राइवेसी बरकरार रखने वाले और ब्रैंड-सुरक्षित तरीके से पेश कर रहे हैं.

इस बारे में कोई सलाह दें कि आर्थिक अनिश्चितता के दौर में ब्रैंड किस तरह से आगे बढ़ सकते हैं और अपने कस्टमर को सर्विस दे सकते हैं?

विश्वसनीयता अभी भी बेहद अहम है. अगर कस्टमर तुरंत कोई प्रोडक्ट नहीं पाते हैं, तो वे कुछ और खरीद लेंगे. मार्केटिंग की जटिल दुनिया में क्लाइंट की समस्याएं सुलझाने के लिए एजेंसी को प्रोडक्ट और सर्विस का सही तरीके से मिला-जुला इस्तेमाल करना चाहिए.

एडवरटाइज़िंग के भविष्य को लेकर आपको कौन सी बात उत्साहित करती है?

कस्टमर की ज़िंदगी को बेहतर बनाने वाले कारगर एक्सपीरिएंस बनाने से बेहतर और कुछ नहीं है. कहानियां मायने रखती हैं. उन कहानियों में भूमिका निभाना ही सबसे बड़ी बात है. यहां अगला क्लिक नहीं बल्कि कारगर कनेक्शन मायने रखते हैं.